Swami Prasad Maurya Resigned:

उत्तर प्रदेश. Swami Prasad Maurya Resigned: उत्तर प्रदेश में चुनाव से पहले ही भारतीय जनता पार्टी को बड़ा झटका लगा है. चुनाव के ठीक पहले योगी कैबिनेट में श्रम एवं सेवायोजन व समन्वय मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या (Swami Prasad Maurya Resigned) ने भाजपा पर कई संगीन आरोप लगाते हुए पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया है. इसके बाद समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने स्वामी प्रसाद मौर्य और उनके साथ आए सभी विधायकों का स्वागत किया है.

BJP ने कई बड़े नेताओं को झटका दिया, अब मैं उन्हें झटका दे रहा हूं – स्वामी प्रसाद मौर्य

योगी कैबिनेट में श्रम एवं सेवायोजन व समन्वय मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या ने भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़ दिया है. उन्होंने पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया है. स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस्तीफे पर कहा कि मैंने अपना इस्तीफ़ा राज्यपाल को सौंप दिया है, राज्यपाल को दिए अपने इस्तीफे में मैंने उन्हें वो सारी वजहें बताई हैं, जिनकी वजह से मैं ये पार्टी छोड़ रहा हूँ. स्वामी प्रसाद मौर्य ने आगे पार्टी पर तंज कस्ते हुए कहा कि भाजपा ने अब तक कई बड़े नेताओं को झटका दिया है, अब मैं उन्हें झटका दे रहा हूं. हम मंत्रियों को भाजपा मंत्रिमंडल में काफी समय से उपेक्षित महसूस करवाया गया है, अभी इस मंत्रिमंडल के कई लोगों के इस्तीफे आना बाकी है. बता दें कि स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ भाजपा के तीन विधायकों ने भी इस्तीफ़ा दिया है.

अखिलेश ने किया स्वागत

स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे (Swami Prasad Maurya Resigned) के बाद सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर उनका समाजवादी पार्टी में स्वागत किया है. अखिलेश ने ट्वीट कर उनका स्वागत करते हुए लिखा, “सामाजिक न्याय और समता-समानता की लड़ाई लड़ने वाले लोकप्रिय नेता श्री स्वामी प्रसाद मौर्या जी एवं उनके साथ आने वाले अन्य सभी नेताओं, कार्यकर्ताओं और समर्थकों का सपा में ससम्मान हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन! सामाजिक न्याय का इंक़लाब होगा ~ बाइस में बदलाव होगा.” स्वामी प्रसाद मौर्य के अलावा अब नसीमुद्दीन सिद्दीकी के भी इस्तीफे की चर्चाएं तेज़ हो गई हैं.

 

यह भी पढ़ें:

Delhi: private offices closed, दिल्ली में कोरोना का कोहराम, DDMA ने दिए प्राइवेट दफ्तरों को बंद करने के आदेश

Relief In Covid Cases घटी रफ्तार, कल से 11,660 कम नए मामले, करीब 70 हजार मरीज ठीक हुए

 

SHARE