लखनऊः अपने बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में बने रहने वाले उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी एक बार फिर चर्चा में आ गए हैं जिसकी वजह उनका कोई बयान नहीं बल्कि उनका दिया हुआ आदेश है. रिजवी ने एक आदेश जारी कर कहा है कि वक्फ बोर्ड की सभी संपत्तियों पर 15 अगस्त को होने वाले कार्यक्रमों में राष्ट्रगान के बाद भारत माता की जय बोलना जरूरी होगा और अगर ऐसा नहीं करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. इससे पहले रिजवी ने देश के उन 9 मंदिरों की लिस्ट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सौंपी थी जिनको तोड़कर मस्जिदें बनाई गई थीं.

समचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा, ‘शिया वक्फ बोर्ड की जितनी भी संपत्तियां है उन पर ऑर्डर जारी किया है कि 15 अगस्त के झंडारोहण कार्यक्रम में राष्ट्रगान के बाद भारत माता की जय का नारा जरूर लगाया जाएगा. और जो इंस्टिट्यूट इसको फॉलो नहीं करेगा हम उसके खिलाफ कार्रवाई करेंगे’.

बता दें की इससे पहले शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा था जिसमें उन्होंने उन 9 ऐतिहासिक मंदिरों के नाम गिनाए थे जिनको तोड़कर मस्जिदें बनाई गई हैं. इसके अलावा रिजवी ने अपने पत्र में उस कानून को खत्म करने की मांग भी की थी जिसमें ऐसे स्थलों पर दावा करने का अधिकार खत्म किया गया था.

इसके अलावा उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को अपना समर्थन दिखाते हुए 10 हजार रुपये दान किए थे.
जिससे कुछ दिन पहले ही रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की थी जिसमें उन्होंने कहा था कि धर्म के नाम पर चांद सितारे वाले हरे झंडे लहराने पर लोग लगाई जानी चाहिए.

देश भर में शरिया अदालत खोलने के प्रस्ताव पर शिया वक्फ बोर्ड ने कहा- मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के नेताओं पर चले देशद्रोह का केस

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी बोले- बिना मूंछ के दाढ़ी रखने वाले मुस्लिम कट्टरपंथी हैं

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App