लखनऊ. 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले बीजेपी को बड़ा झटका लगा है. उत्तर प्रदेश के बहराइच से बीजेपी सांसद सावित्रीबाई फुले ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी समाज को बांटने की कोशिश कर रही है. सावित्रीबाई फुले लगातार बीजेपी के खिलाफ बोलती रही हैं.  इसी साल मार्च में उन्होंने नरेंद्र मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उसकी गलत नीतियों के कारण संविधान और आरक्षण खतरे में आ गया है और आरक्षण को खत्म करने की साजिश रची जा रही है. उन्होंने कहा था कि वह इसके खिलाफ खड़ी हैं और बहुजन समाज के लिए लड़ाई लड़ती रहेंगी. 

सावित्री ने कहा, मैं आहत हूं और मैं बीजेपी की सदस्यता से इस्तीफा दे रही हूं. अब बीजेपी से मेरा कोई नाता नहीं है. सावित्री ने कहा, दलित सांसद होने के कारण मेरी आवाज नहीं सुनी गई. बीजेपी में संविधान खत्म करने की साजिश चल रही है. दलित और ओबीसी के लिए आरक्षण खत्म हो रहा है. उन्होंने कहा, जब तक मैं जिंदा हूं, घर नहीं जाऊंगी. 

23 दिसंबर को मैं महारैली करने रामाभाई मैदान जाऊंगी. बीते दिनों फुले पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना को महापुरुष बताकर विवादों में आ गई थीं. इससे पहले उन्होंने अयोध्या में विवादित जगह पर महात्मा बुद्ध की मूर्ति लगाने की मांग की थी. उन्होंने कहा था कि भारत बुद्ध कू भूमि है और अयोध्या भी उन्हींका है. लिहाजा वहां बुद्ध की मूर्ति लगनी चाहिए. भाजपा के राज्य सभा राकेश सिन्हा द्वारा राम मंदिर निर्माण के लिए प्राइवेट बिल लाने की रिपोर्ट्स पर उन्होंने कहा था कि भारत एक सेक्युलर देख है और संविधान के मुताबिक सभी धर्मों को सुरक्षा की गारंटी मिलेगी. देश संविधान के मुताबिक ही चलेगा.

Upendra Kushwaha RLSP Leaving NDA: एनडीए से अलग हो सकती है RLSP, उपेंद्र कुशवाहा आज कर सकते हैं बड़ा ऐलान !

Bulandshahar Mob Violence: बुलंदशहर हिंसा पर बोले योगी सरकार के मंत्री ओम प्रकाश राजभर- घटना विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल और आरएसएस की साजिश का नतीजा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App