भोपाल. खनन माफिया द्वारा मध्य प्रदेश में एक फोरेस्ट ऑफिसर को मौत के घाट उतारने का मामला सामने आया है. रेत का अवैध खनन करने वाले माफिया ने शुक्रवार सुबह 40 वर्षीय डेप्युटी रैंजर की वाहन से कुचलकर हत्या कर दी. बताया जा रहा है कि फोरेस्ट ऑफिसर को ट्रैक्टर से कुचलकर मार डाला गया. यह घटना मुरैना जिले की घोरना फोरेस्ट चौकी की है.

यहां अवैध खनन करने वाले माफिया इतने बेखौफ हैं कि 2012 में एक युवा आईपीएस अधिकारी नरेंद्र कुमार की हत्या कर चुके हैं. नरेंद्र कुमार की हत्या उस वक्त हुई थी जब वे अवैध खनन को चेक करने की कोशिश कर रहे थे. ताजा मामले में माफियाओं ने सूबेदार सिंह कुशवाह की हत्या की गई है. सूबेदार सिंह सिविल लाइन पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आने वाली घोरना फोरेस्ट चौकी पर तैनात थे जो कि मोरना जिला हैडक्वार्टर से सिर्फ 5 किमी दूर है. ट्रैक्टर चालक सूबेदार सिंह को टक्कर मारकर बुरी तरह रौंदता हुआ भाग खड़ा हुआ. उनकी मौके पर ही मौत हो गई.

बताया जा रहा है कि डिप्टी रेंजर सूबेदार सिंह कुशवाह NH-3 पर स्थित वन चैक पोस्ट पर तैनात थे. शुक्रवार को भी वे अपनी ड्यूटी पर तैनात थे. तभी वहां से एक ट्रैक्टर अवैध तरीके से रेत ले जाता वहां से गुजरा. सूबेदार सिंह ने उसे रोकने का इशारा किया लेकिन ड्राइवर ने ब्रेक नहीं लगाए. इस पर सूबेदार सिहं ने रास्ते में लोहे के नुकीले अवरोधक लगाकर ट्रैक्टर को रोकने की कोशिश की. इसके बाद ट्रैक्टर चालक को रुकना पड़ा. रुकने के बाद दोनों के बीच बहस चलने लगी, इसी बीच पीछे से दूसरा ट्रैक्टर लेकर आ रहे चालक ने सूबेदार सिंह को टक्कर मार दी और उन्हें बुरी तरह कुचलता हुआ भाग खड़ा हुआ.

मध्य प्रदेश में पत्रकार की हत्या के मामले में शिवराज सरकार ने दिए सीबीआई जांच के आदेश

UP: रेत खनन रोकने पहुंचे आईपीएस के अवैध वसूली कर रहे पुलिसकर्मियों ने ही तोड़ दिए हाथ-पैर