भोपाल. मध्य प्रदेश में अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी  गोंडवाना गणतंत्र पार्टी (जीजीपी) से विधानसभा चुनाव से पहले गठबंधन कर सकते हैं. सूत्रों की माने तो भोपाल में अखिलेश यादव ने एक होटल में जीजीपी के राष्ट्र अध्यक्ष हीरा सिंह मरकम से मुलाकात भी की है. सपा का जीजीपी से गठबंधन मध्य प्रदेश में बीजेपी का सामने करने के लिए अच्छा साबित हो सकता है. राज्य में जीजीपी की आदिवासी इलाके में अच्छी पकड़ बताई जाती है.

सूत्रों के अनुसार, मीटिंग के बाद अखिलेश जीजीपी से काफी प्रभावित हुए. इस मामले में पूरी जानकारी के लिए नोट्स भी दोनों तरफ से साझा किए गए हैं. ऐसे में जीजीपी के मनमोहन भाटी और गुज्जर सिंह जबकि सपा से यूपी के झांसी से एक एमएलसी आने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राज्य की सीटों पर अपनी मजबूती की जांच करेंगे. वहीं जीजीपी के अध्यक्ष की माने तो अखिलेश यादव उनकी पार्टी से गठबंधन करने के लिए काफी उत्सुक नजर आए हैं.

जीजीपी राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरा सिंह मरकम ने कहा कि उनके पास बेशक कोई साधन नहीं है लेकिन उनके पास राज्य की 50 सीटों पर मजबूत जमीनी सपोर्ट है. मरकम ने बताया कि कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर वे खुलकर साथ है और अखिलेश यादव पहले से ही कांग्रेस के साथ में है. ऐसे में अगर बसपा भी साथ आती है तो यह एक बड़ा गठबंधन बन सकता है.

वहीं राजनीतिकारों का कहना है कि इस कदम की मदद से अखिलेश यादव आने वाले मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में अपनी पार्टी का खाता खोलना चाहते हैं. दूसरी ओर अखिलेश यादव कांग्रेस के साथ भी गठबंधन के लिए पूरी तरह तैयार हैं. 19 जुलाई को भोपाल पहुंचे अखिलेश यादव ने कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष से भी मुलाकात की थी. हाल ही में उन्होंने कहा था कि अगर विपक्ष 2019 में मिलकर बीजेपी का सामना करना चाहता है तो दोनों तरफ से थोड़ा बहुत समायोजन करना जरूरी है.

राहुल गांधी को नसीहत देकर पीएम नरेंद्र मोदी पर बरसे अखिलेश यादव, बोले- झूठे वादे मत करो

यूपी: शाहजहांपुर में कांग्रेस पर बरसे पीएम नरेंद्र मोदी, कहा- जितना कीचड़ होगा, उतना कमल खिलेगा

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App