लखनऊ. लोकसभा चुनाव 2019 से पहले यूपी महागठबंधन में शामिल आरएलडी पार्टी ने अपनी तीन सीटों के उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी है. मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट से रालोद प्रमुख अजीत सिंह चुनाव लड़ेंगे. वहीं बागपत सीट से जयंत चौधरी और मथुरा लोकसभा सीट से नरेंद्र सिंह चुनावी मैदान में उतरेंगे. उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव की सपा और मायावती की बसपा के साथ गठबंधन में शामिल आरएलडी को सीट बंटवारे में ये तीन सीटें मिली थी. वर्तमान में इन तीनों सीटों से भाजपा के सांसद हैं. लेकिन अजीत सिंह की राष्ट्रीय लोकदल की यहां काफी पकड़ मानी जाती है.

गौरतलब है कि मुजफ्फरनगर, बागपात और मथुरा जाट बहुल क्षेत्र है. इन क्षेत्रों में जाट किसान नेता चौधरी चरण सिंह के आदर्शों पर उनके बेटे अजीत सिंह की पार्टी रालोद का अच्छा खासा प्रभाव माना जाता है. हालांकि साल 2014 के लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी की लहर में इन तीनों सीटों पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी.

वर्तमान में बागपत से पूर्व पुलिस कमीश्नर सत्यपाल मलिक, मुजफ्फरनगर से संजीव बालियान और मथुरा से फिल्म एक्ट्रेस हेमा मालिनी सासंद है. 2014 से पहले बागपत सीट पर राष्ट्रीय लोकदल का बोल बाला रहा है. इस सीट से पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह भी सांसद रह चुके हैं, जबकि बेटे अजीत सिंह भी वहां से कई बार जीत हासिल कर चुके हैं.

रिवाज के चलते ही अब अजीत सिंह ने अपनी विरासत बेटे जंयत चौधरी को सौंप दी है. इसलिए इस बार बागपत से जयंत चौधरी को चुनावी मैदान में उतारा जा रहा है. बेशक बागपत क्षेत्र से सांसद बीजेपी को हों, लेकिन रालोद की मजबूती भी यहां के गांव-गांव में देखने को मिल सकती है.

रालोद के गठबंधन साथी समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी वेस्ट यूपी के इन तीनों क्षेत्रों में जाट वोटर्स के प्रभाव को समझते हैं, जिस वजह से ये तीनों सीटें रालोज के हिस्से में दी गई हैं. सूत्रों की मानें तो लोकसभा चुनाव के लिए अजीत सिंह ज्यादा सीटें चाहते थे लेकिन बाद में वे तीन सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए तैयार हो गए.

AAP to Alliance with NCP: लोकसभा 2019 चुनाव में आप-कांग्रेस गठबंधन की संभावनाएं खत्म, एनसीपी से हाथ मिलाएंगे अरविंद केजरीवाल

Lok Sabha 2019 Election: 28 मार्च से गरजेंगे पीएम नरेंद्र मोदी, लोकसभा 2019 चुनाव के लिए हर राज्य में करेंगे तूफानी दौरा