पटना. राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नवादा जिला महासचिव कैलाश पासवान की सिर कटी लाश मिली है. 48 वर्षीय पासवान का शव नालंदा के खुदागंज में मिला है. इसमें उनका सिर कटा हुआ है. कैलाश पासवान की पहचान उनके कपड़े और साथ में मिले कुछ निजी सामान के आधार पर की गई है. कैलाश पासवान छह जुलाई से लापता थे. सोमवार देर रात उनके बेटे समेत अन्य परिजनों ने नालंदा सदर अस्पताल पहुंचकर उनकी पहचान की.

परिजनों का आरोप है छह जुलाई की रात आठ बजे नारदीगंज थाने के बुच्ची गांव निवासी छोटू गुप्ता उन्हें पंचायती कराने के लिए बोलेरो से लेकर चला गया था. इसके बाद से छोटू गुप्ता और कैलाश पासवान का कोई पता नहीं चला. छोटू गुप्ता का गांव के ही राधे साव से विवाद चल रहा था. बाद में कैलाश पासवान के बेटे ने छोटू गुप्ता के खिलाफ ही अपहरण की प्राथमिकी दर्ज कराई.

48 वर्षीय कैलाश पासवान नवादा के बुधौल स्थित चमड़ा गोदाम के निवासी थे. वहीं दूसरी तरफ छोटू गुप्ता की पत्नी नारदीगंज प्रखंड की ननौरा पंचायत समिति की सदस्य हैं. इस बीच सात जुलाई को नालंदा के माढ़ीवाल गांव के पास से पुलिस ने एक सिर कटी लाश बरामद की थी. लाश को हॉस्पीटल में रखवा दिया गया. वहीं दो दिन तलाशने के बाद कैलाश पासवान के बेटे संजय कुमार ने अपने पिता को अगवा करने की प्राथमिकी दर्ज कराई.

कैलाश पासवान के परिवार ने दो महिलाओं पर भी उनके अपहरण में शक जाहिर किया है. इनमें से एक महिला एक एनजीओ में काम करती है. वहीं दूसरी संजय पासवान की दूसरी बीवी होने का दावा करती है. हालांकि प्राथमिकी में दोनों का नाम नहीं लिया गया है. इसमें सिर्फ छोटू गुप्ता का ही नाम है. इस मामले पर राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि छह महीने में राजद नेताओं की हत्या का तीसरा मामला है. पुलिस को शत्रुता के एंगल से सभी मर्डर केस की दोबारा जांच करनी चाहिए. राजद को जो नेता जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं उन्हें निशाना बनाकर मारा जा रहा है.

मुन्ना बजरंगी मर्डरः पत्नी सीमा सिंह ने केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा पर लगाया हत्या की साजिश रचने का आरोप

पत्नी ने 10 दिन पहले प्रेस कॉन्फ्रेस में कहा था चल रही है हत्या की साजिश, फिर कैसे हुआ मुन्ना बजरंगी का मर्डर ?

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App