पटना. राजद प्रमुख लालू प्रसाद के बड़े बेटे और बिहार सरकार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने सुबह एक रहस्मयी ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने राजनीति से मोह भंग होने के संकेत दिया था. जिसके बाद अब तेजप्रताप ने उस ट्वीट को लेकर बयान दिया है. तेज प्रताप ने कहा है कि उनकी पार्टी के वरीष्ठ नेता उनका फोन नहीं उठाते हैं. हालांकि उन्होंने भाई तेजस्वी यादव और खुद के बीच किसी भी तरह के मतभेद से इनकार किया है. तेज प्रताप ने तेजस्वी को अपने कलेजे का टुकड़ा कहा है. 

तेजप्रताप यादव ने कहा है कि लोग राजद को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं. इसलिए पार्टी के तत्वों को निकालना जरूरी है. उन्होंने कहा कि पार्टी के वरिष्ठ नेता ऐसे लोगों की पहचान कर उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाएं. इसके साथ ही तेज प्रताप ने कहा है कि हमे पार्टी से असमाजिक त्तवों को निकालना बेहद जरूरी है. उन्होंने कहा कि राजेंद्र पासवान जैसे लोग हमारे लिए कड़ी मेहनत कर चुके हैं.

तेज प्रताप ने कहा कि उन्होंने राजेंद्र पासवान को पार्टी में पोसिशन देने के लिए लालू जी, राबड़ी जी और तेजस्वी से कहा था. जिसके बाद यह किया गया. आगे तेज प्रताप ने सवाल उठाते हुए कहा कि यह सब होने में इतनी देरी क्यों?. बता दें कि शनिवार सुबह तेज प्रताप ने एक ट्वीट कर सबको सोच में डाल दिया था. ट्वीट में उन्होंने राजनीति से मन ऊब जाने के संकेत दिए थे.

तेज प्रताप ने शनिवार को ट्वीट करते हुए कहा कि ‘मेरा सोचना है कि मैं अर्जुन को हस्तिनापुर की गद्दी पर बैठाऊं और खुद द्वारका चला जाऊँ. अब कुछेक “चुग्लों” को कष्ट है कि कहीं मैं किंग मेकर न कहलाऊं. राधे राधे..

चाचा नीतीश कुमार के लिए अब हमारे गठबंधन में जगह नहीं: तेजस्वी यादव

बिहार के CM नीतीश पर तेजस्वी यादव का निशाना- डोनाल्ड ट्रंप से मांग रहे हो क्या विशेष राज्य का दर्जा?

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App