नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की रहने वाली एक महिला ने खुद को ज्योतिषी बताने वाले आशु भाई गुरुजी महाराज के खिलाफ दिल्ली के हौजखास थाने में रेप का मामला दर्ज कराया है. महिला ने शिकायत में बताया है कि आरोपी ने कई वर्षों तक दिल्ली स्थित अपने आश्रम में उसके साथ बलात्कार किया. इतना ही नहीं, इलाज के बहाने आरोपी ने उसकी बेटी को भी हवस का शिकार बनाया. महिला की मानें तो बाबा के बेटे और दोस्तों ने भी उनके साथ यौन शोषण किया है. जांच में अब खुलासा हुआ है कि खुद को आशु भाई गुरुजी बताने वाले बाबा का असली नाम आसिफ खान है, यानी वह हिंदू नहीं बल्कि मुसलमान है.

इंडिया टुडे ग्रुप की खबर के अनुसार, जांच में निर्वाचन आयोग की वोटर लिस्ट में आशु भाई गुरुजी की फोटो के सामने उसका नाम आसिफ खान दर्ज है. बाबा के बेटे की फोटो की आगे समर खान लिखा हुआ है. आशु महाराज उर्फ आसिफ दूसरों का हाथ देखकर भविष्य बताने का दावा करता था. महिला ने बताया कि उसकी बेटी के पैरों में दर्द रहता था. बेटी के इलाज के सिलसिले में वह 2008 में आशु महाराज के संपर्क में आई थी. आशु महाराज ने महिला की बेटी को पूरी तरह से ठीक करने का दावा किया.

आरोपी बच्ची को नग्न कर उसकी मालिश करता था. एक दिन बाबा पीड़िता और उसकी बेटी को रोहिणी स्थित अपने आश्रम ले गया और मासूम के साथ रेप किया. आरोप है कि बाबा के बेटे और उसके दोस्तों ने भी महिला के साथ रेप किया है. बेटी के साथ हैवानियत होने पर महिला ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. केस दर्ज होने के बाद से आरोपी और उसका बेटा फरार चल रहा है. पुलिस आरोपियों की तलाश में उनके ठिकानों पर दबिश दे रही है. महिला ने पुलिस से इंसाफ की गुहार लगाई है.

कौन है आशु भाई गुरुजी महाराज उर्फ आसिफ खान?
1990 तक आसिफ खान दिल्ली के वजीरपुर इलाके में एक झुग्गी-झोपड़ी में रहता था. इसके बाद वह सराय रोहिल्ला इलाके में नाम बदलकर रहने लगा. उसने अपना नाम आशु भाई महाराज रख लिया. लोगों का हाथ देखने के नाम पर वह अंधविश्वास का धंधा चलाने लगा. धंधा चल पड़ा और देखते ही देखते वह करोड़ों का मालिक बन गया. ज्योतिषशास्त्र के नाम पर लोगों को ठगने वाला आशु महाराज उर्फ आसिफ खान ने दवाइयों के बिजनेस में भी पैसा लगा रखा था.

दरभंगा में ट्यूशन पढ़ाने वाला 65 साल का मौलाना 8 साल की बच्ची से रेप के आरोप में गिरफ्तार