नई दिल्लीः राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद अदालत के बाहर सुलझने के बजाय और उलझता जा रहा है. हाल ही में ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य सलमान नदवी को बोर्ड ने बाहर कर दिया था. अब राम जन्मभूमि सद्भावना समिति के अध्यक्ष और श्री श्री रविशंकर के करीबी माने जाने वाले अमरनाथ मिश्रा ने नदवी पर बड़ा आरोप लगाया है. मिश्रा ने आरोप लगाते हुए कहा कि सलमान नदवी मस्जिद का दावा छोड़ने के बदले 5000 करोड़ रुपये की डील करना चाहते थे.

इंडिया टुडे ग्रुप की खबर के मुताबिक, अमरनाथ मिश्रा ने कहा कि जिस फार्मूले को लेकर सुन्नी सेंट्रल बोर्ड के अध्यक्ष और सलमान नदवी श्री श्री रविशंकर से मिलने गए थे, उस फार्मूले के पीछे एक बड़ी डील करने की तैयारी की जा रही थी. मिश्रा ने आरोप लगाया कि डील के तहत नदवी ने 5 हजार करोड़ रुपये, अयोध्या में 200 एकड़ जमीन और राज्यसभा की एक सीट की मांग की थी. मिश्रा की मानें तो उनसे यह बात इसलिए की गई ताकि नदवी की इस मांग के बारे में मंदिर निर्माण से जुड़े लोगों, सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक पहुंचाई जा सके और यह डील फाइनल हो सके.

बकौल मिश्रा मुद्दे से जुड़े सभी बड़े नेता और श्री श्री रविशंकर भी इस बारे में जानते हैं. कोर्ट के बाहर समझौते पर चल रहे मंथन के लिए श्री श्री रविशंकर कई बार मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्यों से भी मिले थे. सलमान नदवी को भी सेटलमेंट से जुड़ा फॉर्मूला दिया गया था ताकि मुस्लिम पर्सनल बोर्ड में इस पर चर्चा हो सके. मिश्रा ने कहा कि बोर्ड में चर्चा करने के बजाए नदवी यह फॉर्मूला लेकर सीधे श्री श्री रविशंकर के पास चले गए और इसका ऐलान कर दिया. मिश्रा ने दावा किया कि उनके पास इस डील को लेकर पुख्ता सबूत हैं. जब इन आरोपों पर चर्चा करने के लिए सलमान नदवी और अमरनाथ मिश्रा का चैनल में बहस के माध्यम से सामना कराया गया तो नदवी ने मिश्रा के आरोपों को बेबुनियाद करार देते हुए उन्हें गिरा हुआ इंसान बताया. इस दौरान नदवी बीच बहस में ही उठकर चले गए.

अयोध्या: राम मंदिर के लिए 28 साल बाद फिर शुरू हुई राम राज्य रथयात्रा, अयोध्या से रामेश्वरम तक चलेगी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App