July 15, 2024
  • होम
  • Rajasthan Politics: CM गहलोत को कोर्ट तक ले जाएंगे शेखावत, जानें पूरा मामला

Rajasthan Politics: CM गहलोत को कोर्ट तक ले जाएंगे शेखावत, जानें पूरा मामला

  • WRITTEN BY: Amisha Singh
  • LAST UPDATED : March 4, 2023, 7:24 pm IST

Rajasthan News: केंद्रीय मंत्री जल शक्ति गजेंद्र सिंह शेखावत राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को घेरे हुए हैं। आपको बता दें, CM गहलोत के खिलाफ शेखावत राउज एवेन्यू कोर्ट में मानहानि का मुकदमा दायर करेंगे। शेखावत कोर्ट नंबर 503 में जाकर केस पेश करेंगे। दरअसल, फरवरी में जोधपुर दौरे के दौरान सीएम गहलोत ने सर्किट हाउस में संजीवनी क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी से जुड़े पीड़ितों से मुलाकात की थी, जो लाखों रुपये लगाकर दर-ब-दर भटक रहे थे. इस दौरान पीड़ितों ने केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत पर इस घोटाले में शामिल होने का दावा किया। उसके बाद, CM ने यह सुनिश्चित किया कि पीड़ित पक्ष के विचारों को ध्यान में रखते हुए उचित कार्रवाई की जाए।

 

ये बयान सीएम गहलोत के लिए बना मुसीबत

आपको बता दें, CM गहलोत ने बाद में मीडिया से कहा कि “मुझे आश्चर्य है कि मोदी जी ने ऐसे व्यक्ति को मंत्री कैसे बना दिया।” उन्होंने हाल के दिनों में चैंबर को बताया था कि खुद गजेंद्र सिंह शेखावत आरोपी हैं। इसके बाद, गजेंद्र सिंह शेखावत ने गिरफ्तारी के डर से अपनी सुरक्षा बढ़ा दी। हज़ारों रुपयों की बात होती तो तुमसे भीख माँग लेता। यह उद्योगपतियों की किसी भी योजना को हटा देता। लेकिन यहां हम अरबों रुपये का सौदा कर रहे हैं। इतने बड़े मंत्री होने के नाते उन्हें खुद आगे आना चाहिए और कार्रवाई करनी चाहिए।

निवेशकों को मुआवजा दिया जाना चाहिए। लेकिन वह नहीं कर रहा है। इस तरह के माफिया पूरे देश में फल-फूल रहे हैं। इससे पहले आदर्श क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी घोटाला हुआ था, इसके मालिक भी बीजेपी से जुड़े थे। इन लोगों के साथ जो हुआ वह बहुत ही दुखद है। राज्य सरकार जमा पूंजी की वसूली के लिए हर संभव प्रयास करेगी। उन्होंने कहा कि इस लूट में जो भी शामिल होगा उसे सख्त से सख्त सजा मिलेगी।

शेखावत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिया जवाब

हालांकि, शेखावत ने अगले दिन एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सीएम के आरोपों का खंडन किया था। उन्होंने कहा, “मेरे चरित्र को बदनाम कर मुझे राजनीतिक रूप से कमजोर करने की साजिश है और राजस्थान के मुख्यमंत्री जासूसी एजेंसी को एक उपकरण के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं।” यह अकेला प्रयास नहीं है, वे पहले भी इस तरह के प्रयास कर चुके हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा है कि वह जिस स्तर पर पहुंच गए हैं, मैं उस स्तर तक नहीं गिरना चाहता। मैं धैर्य की सीमा रखना चाहता हूं। संजीवनी क्रेडिट यूनियन सोसाइटी मध्य प्रदेश, गुजरात, राजस्थान सहित कई अन्य राज्यों में काम करती है।

जब कंपनी का रजिस्ट्रेशन पूरा हुआ तो उस वक्त राजस्थान और दिल्ली में कांग्रेस की सरकार थी। कंपनी को साल 2013 में मल्टीस्टेट का दर्जा भी मिला था, उस वक्त भी दिल्ली में कांग्रेस की सरकार थी। 2018 में, क्रेडिट यूनियन सोसाइटी के निदेशक और घोटाले के मुख्य आरोपी ने पचपदरा विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए कांग्रेस पार्टी के अफवाह पर सब कुछ किया। दरअसल, हजारों रुपये खर्च कर अखबारों में पूरे पेज का विज्ञापन डाला गया।

 

पहली बार अगस्त 2019 में फिर दर्ज की गई

शेखावत ने आगे कहा था कि “23 अगस्त 2019 को संजीवनी क्रेडिट यूनियन सोसाइटी में एक प्राथमिकी दर्ज की गई थी। राजस्थान सरकार के अधीन काम करने वाली पुलिस ने मामले की जांच की है। इस मामले में पहली शिकायत दिसंबर 2019, दूसरी फरवरी 2020 और तीसरी 7 फरवरी 2023 को दर्ज कराई गई थी। चार्जशीट हजारों पेज की है। शेखावत ने कहा कि इन हजारों पन्नों की चार्जशीट में न तो मुझ पर और न ही मेरे परिवार के किसी सदस्य पर आरोप लगाया गया है।

ऐसे में क्या CM सरेआम झूठ बोलकर पुलिस को कोई संकेत नहीं दे रहे हैं? शेखावत ने कहा कि CM अपने बेटे की हार से परेशान नहीं हो रहे हैं? बता दें कि संजीवनी क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड ने राजस्थान के 211 और गुजरात के 26 शहरों सहित भारत के कई अन्य राज्यों में अपनी शाखाएं खोली हैं। उन्होंने दो लाख निवेशकों से 953 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करने का झांसा दिया और धोखा किया। इस मामले में अब तक कई सारी गिरफ्तारी हो चुकी है।

 

 

यह भी पढ़ें

Relationship: क्या है तलाक-ए-हसन? जानिए इस्लाम में कितने तरीके के होते हैं तलाक

 

 

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो

विज्ञापन