नई दिल्ली. दक्षिण हरियाणा के कांग्रेस प्रभारी राजन राव (Rajan Rao) ने पुलिस विभाग पर लगाम नहीं लगाने और शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों शिक्षाको पर हमला करने वाले हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज के इस्तीफे की मांग की। 25 अक्टूबर को, बेहतर वेतन और नौकरी की सुरक्षा की मांग में सैकड़ों वॉकेशनल शिक्षक पूरे हरियाणा से मुख्यमंत्री आवास तक मार्च करने के लिए एकत्र हुए थे। वॉकेशनल शिक्षकों को मनोहर लाल खट्टर से संपर्क करने के लिए मजबूर होना पड़ा क्योंकि उनके शिक्षा विभाग ने शिक्षकों द्वारा आवाज उठाई गई शिकायतों को अनदेखा किया था।

केंद्र में भाजपा सरकार का एक प्रमुख फोकस रहा है

कौशल विकास, जो केंद्र में भाजपा सरकार का एक प्रमुख फोकस रहा है, हरियाणा में ऑटोमोबाइल, आईटी, खुदरा, सुरक्षा, शारीरिक शिक्षा आदि से संबंधित बच्चों को शिक्षा प्रदान करने के लिए 2400 से अधिक वॉकेशनल शिक्षकों को नियुक्त करने का कारण था। प्रारंभ में शिक्षकों को शिक्षा विभाग के माध्यम से काम पर रखा गया था और उन्हें 45,००० रुपये का मासिक वेतन भी दिया जाता था। लेकिन मनोहर लाल खट्टर सरकार ने नीति में बदलाव किया और तीसरे पक्ष के सेवा प्रदाताओं के माध्यम से 23,241 रुपये के मासिक वेतन पर शिक्षकों की भर्ती शुरू कर दी। तीसरे पक्ष के के माध्यम से काम पर रखे गए शिक्षकों को वेतन का भुगतान देर से किया गया और बहुत लोगों को काम से हटा भी दिया गया।

वॉकेशनल शिक्षक राज्य के शिक्षा विभाग द्वारा सीधी भर्ती की मांग कर रहे हैं

वॉकेशनल शिक्षक राज्य के शिक्षा विभाग द्वारा सीधी भर्ती की मांग कर रहे हैं क्योंकि यह उनके वेतन का समय पर भुगतान सुनिश्चित करेगा लेकिन विभाग उनकी समस्याओं पर चर्चा करने को तैयार नहीं है। राज्य के शिक्षा विभाग की उदासीनता ने शिक्षकों को अपनी शिकायतों को मुख्यमंत्री के पास ले जाने के लिए मजबूर किया, लेकिन मुख्यमंत्री के आवास तक पहुंचने से पहले ही हरियाणा पुलिस ने उन पर बेरहमी से लाठीचार्ज कर दिया। लाठीचार्ज में 30 शिक्षक घायल हो गए और उनमें से चार के आँखों और सिर में गंभीर चोटें आईं।

हरियाणा पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर अपना गुस्सा उतारा

हाल के महीनों में यह दूसरी ऐसी घटना है जहां हरियाणा पुलिस ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर अपना गुस्सा उतारा है। पिछली ऐसी घटना में किसानों का विरोध प्रदर्शन हरियाणा पुलिस के निशाने पर था, जिसमें कई किसान घायल हुए थे। उस घटना के बाद मुख्यमंत्री ने पुलिस का बचाव किया। यहां तक ​​कि भारत में अपने शासन के दौरान अंग्रेजों ने भी ‘मूल निवासियों’ से निपटने के लिए दोनों पुरस्कार और झड़ी के तरीकों को अपनाया था, जबकि हमारे घरेलू शासक केवल छड़ी का पक्ष लेते हैं।

भाजपा सरकार विरोध को खतरे के रूप में देखती है

भाजपा के आला नेताओं को ये समझने की जरूरत है जो लोकतंत्र को सुचारु रूप से चलने के लिए विरोध प्रदर्शन करना भी ज़रूरी है। ऐतिहासिक रूप से विरोध ने सकारात्मक सामाजिक परिवर्तन को प्रेरित किया है। भारतीय स्वतंत्रता भी अंग्रेजों के अत्याचारी शासन का विरोध करके प्राप्त की गई थी। विरोध प्रदर्शन एक जरिया है लोकतंत्र को मजबूत करने का । लेकिन भाजपा सरकार विरोध को खतरे के रूप में देखती है। मौजूदा सरकार भी इससे अलग नहीं है और विरोध प्रदर्शनों को अवैध ठहराने की कोशिश कर रही है, जो हमारे लोकतंत्र के लिए बहुत खतरनाक संकेत है।

किसानों के विरोध से लेकर सीएए के विरोध तक, पूरे भारत के विश्वविद्यालयों में विरोध प्रदर्शनों से निपटने के लिए भाजपा सरकार ने एक आम तरीका अपनाया है – वो है, कभी उन्हें अर्बन नक्सल, कभी एंटी-नेशनल से लेकर ख़ालिस्तानी तक बताया है, सरकार प्रदर्शनकारियों के साथ बातचीत में शामिल होने के लिए तैयार नहीं है और उन्हें चुप कराने के लिए लाठी का इस्तेमाल करना पसंद करती है। जब अंग्रेजों ने महात्मा गांधी, पंडित नेहरू, सरदार पटेल और कांग्रेस पार्टी के अन्य दिग्गजों को छड़ी का इस्तेमाल करके चुप नहीं करा पाए तो ये सरकार क्या कर पायेगी। भारतीय प्रदर्शनकारियों को अनिल विज जैसे लोगों द्वारा चुप नहीं कराया जाएगा, जिन्हें शांतिपूर्वक विरोध कर रहे लोगों के अधिकारों की रक्षा करने में विफल रहने के लिए तुरंत अपना इस्तीफा दे देना चाहिए।

Rajan Rao- हरियाणा में खट्टर सरकार ‘बेटी बचाने’ में अक्षम’

Rajan Rao on Dengue Cases– खट्टर सरकार, मच्छर के आगे लाचार

SA beat SL by 4 Wickets in T20 World Cup साउथ अफ्रीका ने श्रीलंका को 4 विकेट से मात दी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर