नई दिल्लीः उत्तराखंड के नैनीताल जिले के रामनगर के पास एक प्रसिद्ध मंदिर में एक मुस्लिम युवक को भीड़ हिन्दूवादी संगठन की भीड़ से बचाने के लिए नायक के रूप में सम्मानित सिख पुलिस अधिकारी गगनदीप सिंह को छुट्टी पर भेजा गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बहादुर अधिकारी, गगनदीप जिन्होंने अपने कार्य के लिए दिल जीते थे उनको अब जान से मारने की धमकी भरे कॉल आ रहे हैं. जिसके चलते उनको छुट्टी पर भेजा गया है. सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें गगनदीप एक मुस्लिम युवक को भीड़ से बचाते हुए नजर आ रहे हैं उनके इस साहस के लिए उनको सोशल मीडिया सहित अपने विभाग से भी जमकर तारीफें मिली हैं साथ ही उनको 2500 रुपये का पुरस्कार भी दिया गया है.

22 मई को उत्तराखंड में प्रसिद्ध गर्जिया देवी मंदिर में अपनी हिंदू प्रेमिका के साथ कथित तौर पर आपत्तिजनक स्थिति में देखे जाने के बाद हिन्दूवादी संगठन के लोगों ने उस पर हमला कर दिया था. जिसके बाद पुलिस अधिकारी गगनदीप ने उस युवक को भीड़ से बचाया और वहां से निकाल कर लाए थे. जिसके बाद उनका ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था.

एक और मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गगनदीप अपने परिवार के साथ वक्त बिताने के लिए चार दिनों की छुट्टी पर गए हैं. उनका परिवार उधम सिंह नगर जिले के जसपुर में रहता है जहां वो गए हैं. एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) अशोक कुमार ने बताया कि हिन्दू युवति के साथ मुस्लिम युवक के मंदिर आने की खबर स्थानीय लोगों के बीच फैल गई थी जिसके बाद दोनों को सबक सिखाने के लिए काफी संख्या में लोग वहां एकत्रित हो गए थे.

जब गगनदीप को पता लगा कि मंदिर में कुछ परेशानी हो रही है तो वो उस जगह गए जहां उस मुस्लिम युवक को भीड़ मारने की तैयारी में थी. वहां पहुंच कर सिंह ने उस युवक को अपनी छाती से चिपका लिया और अपने करीब रखा ताकी उसे किसी प्रकार की चोट न आने पाए. जब भीड़ उस मुस्लिम युवक को मारने में असफल रही तो उऩ्होंने पुलिस के खिलाफ ही नारे लगाने शुरु कर दिए.

 

कानपुर: हिन्दू लड़की से दोस्ती करने पर मुस्लिम युवक की पिटाई, बनाया वीडियो

देहरादून के आरिफ के बाद गोपालगंज के जावेद आलम ने पेश की इंसानियत की मिसाल, रोजा तोड़ बचाई हिन्दू बच्चे की जान