रायपुरः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आजकल चुनावी मोड में हैं. चार राज्यों के विधानसभा चुनावों में वह बीजेपी के लिए जमकर प्रचार कर रहे हैं. खासकर उनका जोर मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में होने वाले चुनावों पर है, जहां पर बीजेपी का पहले से शासन है. पीएम नरेंद्र मोदी को इन राज्यों को एंटी इनकंबेसी से बचाने की चुनौती है क्योंकि सत्ता होने के कारण इन राज्यों में सत्ता विरोधी लहर प्रबल है. चुनाव से पहले हुए अनेक सर्वे में भी बीजेपी को घाटा होते हुए दिख रहा है. लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीजेपी की नाव को बचाने के लिए लगे हुए हैं.

छत्तीसगढ़ की अंबिकापुर में रैली करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. पहले उन्होंने आदिवासियों द्वारा दी गई परंपरागत ढोल को बजाया और फिर मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस का ‘ढोल’ बजाना शुरु किया. गांधी-नेहरू परिवार पर हल्ला बोलते हुए उन्होंने कहा कि, लोगों को लगता था कि लाल किले से भाषण देने का अधिकार सिर्फ एक ही परिवार को है. राजदरबारी लोग भी एक ही परिवार का गीत गाते थे. लेकिन हमने उस वर्चस्व को तोड़ा है. नोटबंदी की बात करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि नोटबंदी से किसी को कोई परेशानी नहीं हुआ, जितना कि एक परिवार को हुआ.

नक्सलवाद पर हमला बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि लोगों ने छत्तीसगढ़ के पहले चरण के चुनाव में बड़ी संख्या में वोट देकर नोटबंदी को कड़ी चुनौती दी है. नक्सलियों ने तो धमकी दी थी कि चुनाव के बाद जिसकी उंगली पर मतदान करने का काला निशान होगा उसकी उंगलियां काट दी जाएंगी. लेकिन लोग डरे नहीं और यह दूसरे चरण में मतदान के लिए जाने वाले के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है. उन्होंने लोगों से भारी संख्या में बीजेपी को वोट डालने की अपील की.

Chhattisgarh Assembly Election 2018 Voting and Poll Highlights: छत्तीसगढ़ में पहले चरण की वोटिंग खत्म, 70 फीसदी हुआ मतदान