PM Narendra Modi Clean Chit In Gujarat Riots: 2002 में कारसेवकों से भरी एक ट्रेन में आगजनी के बाद भड़के हिंसा और दंगों से सारा देश दहल गया था. उस वक्त गुजरात के मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी पर भी इन दंगों को लेकर  इल्जाम लगे थे. एक लंबे वक्त से पीएम मोदी के राजनीतिक विरोधी उन्हें गुजरात दंगों से जोड़कर निशाना साधते रहे हैं. लेकिन अब नानावती-मेहता कमिशन की रिपोर्ट गुजरात विधानसभा में पेश कर दी गई है. इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि गोधरा हादसे के बाद हुए दंगे आयोजित नहीं थे. इनकी साजिश नहीं की गई थी. उस वक्त गुजरात के मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी को भी आयोग ने क्लीन चिट दे दी है. 

गुजरात दंगों में क्या हुआ था, क्या थे आरोप और आयोग की रिपोर्ट में क्या है

दरअसल 2002 दंगों में गुजरात पुलिस पर इस मामले में लापरवाही बरतने का आरोप लगा था. तीन दिन तक चले दंगे में सैकड़ों लोग मारे गए थे और कई अन्य लापता हो गए. नरेंद्र मोदी पर आरोप लगे थे कि उन्होंने दंगाइयों को रोकने के लिए जरूरी कदम नहीं उठाए. उन्होंने पुलिस को दंगाइयों के खिलाफ कार्रवाई न करने के आदेश दिए. लेकिन नानावती आयोग की रिपोर्ट में नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट दे दी गई है.

सोशल मीडिया पर लोगों ने किया फैसले का स्वागत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर गुजरात दंगों को लेकर उनके विरोधी अक्सर हमलावर होते रहे हैं. बावजूद इसके कि इस मामले में कई अदालती जांचों से भी नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट मिली थी. नानावती आयोग की रिपोर्ट में पीएम मोदी को क्लीन चिट मिलने से सोशल मीडिया पर उनके समर्थक काफी खुश हैं. सोशल मीडिया पर मजेदार ढंग से प्रतिक्रिया दे रहे हैं. 

एक यूजर ने सैम पित्रोदा के सिख दंगों पर दिए बयान को ट्वीट किया है

एक यूजर ने मीम के जरिए बताया कि इस वक्त ‘लिबरल’ कैसा महसूस कर रहे होंगे

सोशल मीडिया के ‘गांधी जी’ भी हैं गदगद

कुछ इस अंदाज में खुशी मनाई लोगों ने

ये भी पढ़ें, Read Also: 

Who is IPS Sanjiv Bhatt: नरेंद्र मोदी के मुखर विरोधी आईपीएस अफसर संजीव भट्ट को हिरासत में मौत मामले में उम्र कैद की सजा, जानें संजीव भट्ट की पूरी कहानी

Narendra Modi Golden Tweet: लोकसभा चुनाव जीतने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी का संदेश बना ट्विटर का गोल्डन ट्वीट

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर