कानपुर. इत्र कारोबारी पीयूष जैन को उनके आवास पर 5 दिन की लंबी छापेमारी के बाद 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है लेकिन उनके घर से अभी भी नोटों की बारिश हो रही है. खबर है कि उनके आवास से अभी तक 280 करोड़ रुपये से अधिक नकदी, 125 किलोग्राम सोना और 600 किलोग्राम चंदन की लकड़ी भी बरामद हुई है। कारोबारी को सीजीएसटी एक्ट की धारा 132 के तहत गिरफ्तार किया गया है।

रेड 22 दिसंबर को शुरू किए गए और अब भी जारी है। बिना किसी जीएसटी पेपर के माल से भरे चार ट्रकों को जीएसटी अधिकारियों ने रोका।
पान मसाला/तंबाकू उत्पादों के शिखर ब्रांड के निर्माताओं ने अपनी कर देनदारी के लिए 3.09 करोड़ रुपये की राशि स्वीकार कर जमा कर दी है। कारखाने में रखे गए वास्तविक स्टॉक को किताबों में दर्ज स्टॉक से जोड़ा गया और जीएसटी अधिकारियों ने कच्चे माल और तैयार उत्पादों की कमी पाई। इसने आगे पुष्टि की कि निर्माता एक ट्रांसपोर्टर की मदद से माल को गुप्त रूप से हटाने में लिप्त था जो नकली चालान जारी करता था। जीएसटी अधिकारियों ने 200 फर्जी चालान बरामद किए हैं।

जीएसटी अधिकारी ने बताया कि सोमवार शाम तक बरामद और जब्त की गई कुल बेहिसाबी नकदी करीब 250 करोड़ रुपये थी। सीबीआईसी अधिकारियों कि ओर से नकदी की यह अब तक की सबसे बड़ी जब्ती है। परिसर से जब्त दस्तावेजों की जांच की जा रही है।
अकेले कन्नौज में तलाशी से 17 करोड़ रुपये और नकद बरामद हुए। इन परिसरों से बरामद और जब्त की गई कुल बेहिसाबी नकदी की कुल राशि रु. 280 करोड़।

कौन हैं पीयूष जैन?

पीयूष जैन कानपुर के परफ्यूम के बिजनेसमैन हैं। वह कानपुर के इतरवाली गली में अपना व्यवसाय करते थे और कन्नौज, कानपुर और मुंबई में उनके कार्यालय थे।

मिली जानकारी के मुताबिक, सुर्खियों में रहने से बचने के लिए बिजनेसमैन ने अपने पैतृक स्थान कन्नौज में एक पुराने स्कूटर का इस्तेमाल किया। कानपुर में, कथित तौर पर उनके पास केवल दो पुरानी कारें थीं।

पीयूष जैन का मुंबई में एक घर, हेड ऑफिस और एक शोरूम भी है। उनकी कंपनियां भी मुंबई में ही पंजीकृत हैं। नवंबर में, जैन ने समाजवादी पार्टी परफ्यूम भी लॉन्च किया, जिसे ‘समाजवादी अत्तर’ के रूप में ब्रांडेड किया गया। मिली जानकारी के अनुसार पीयूष जैन की लगभग40 कंपनियां हैं, जिनमें से दो मध्यपूर्व में हैं।

अधिकारियों ने कहा, वह मुख्य रूप से कन्नौज में अपने आधार के साथ इत्र बिजनेसमैन में हैं, जबकि समूह का मुंबई में एक शोरूम है, जहां से पूरे देश और विदेशों में इत्र बेचा जाता है।

छापेमारी के दौरान यह भी पता चला कि कंपनी ने मुखौटा कंपनियों के नाम पर कर्ज लिया था। साथ ही कंपनी का विदेशी लेनदेन भी बहुत बड़ा है।

Doctors Strike : आईटीओ के पास विरोध कर रहे रेजिडेंट डॉक्टरों को हिरासत में लिया गया, डॉक्टर हड़ताल ने की हड़ताल की घोषणा

Omicron in India Live Updates: महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन के मामलों में उछाल, आंकड़ा 650 पार

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर