नई दिल्ली. भारी बारिश के कारण महाराष्ट्र के कई जिलों में बाढ़ (flood) की स्थिति बनी हुई है। दरअसल, राज्य के जलगांव जिले की चालीसगांव तहसील से गुजरने वाली तीतूर नदी में आज अचानक बाढ़ आ गई और आधा शहर जलमग्न हो गया है।यह सब आज सुबह यहां हुआ। चालीसगांव में आज सुबह नदी में अचानक आई बाढ़ से बड़ा हादसा होना बताया जा रहा है. हादसा उस वक्त बताया जा रहा है जब ज्यादातर लोग सो रहे थे।

अचानक आई बाढ़ से किसी को निपटने का मौका नहीं मिला। इससे कुछ लोगों के तैरने की आशंका है। उधर, जिला प्रशासन ने एनडीआरएफ को मदद के लिए बुलाया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक मुंडखेड़ा शिवरा इलाके से 200 मवेशी भी बाढ़ में बह गए हैं। आपको बता दें कि चालीसगांव तहसील में अभी भी बारिश जारी है और इसके चलते गिरना बांध के नीचे बहने वाली गिरना नदी, सहायक नदियां और नालों में पानी भर गया है। वहीं अब बांधों और झीलों से पानी छोड़ा जा रहा है। इसके साथ ही अब स्थिति और खराब होने की आशंका जताई जा रही है।

स्थानीय लोगों का कहना है कि चालीसगांव तहसील के कई गांवों में आधी रात के बाद बारिश शुरू हो गई. नतीजतन, मुंडखेड़ा, वकली, रोकरे, पनगांव और बोरखेड़ी गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं. यह भी कहा जाता है कि वकली गांव से दो ट्रैक्टर और 200 मवेशी बह गए हैं। चालीसगांव-कन्नड़ घाट पर चट्टान खिसकने से बारिश के कारण वाहनों की आवाजाही ठप हो गई है और वाहनों की लंबी कतार लग गई है।

स्थानीय लोगों का कहना है कि चालीसगांव तहसील के कई गांवों में आधी रात के बाद बारिश शुरू हो गई. नतीजतन, मुंडखेड़ा, वकली, रोकरे, पनगांव और बोरखेड़ी गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं. यह भी कहा जाता है कि वकली गांव से दो ट्रैक्टर और 200 मवेशी बह गए हैं. चालीसगांव-कन्नड़ घाट पर चट्टान खिसकने से बारिश के कारण वाहनों की आवाजाही ठप हो गई है और वाहनों की लंबी कतार लग गई है।

China: चीन ने बच्चों के गेमिंग पर लगाई पाबंदी, अब हफ्ते में सिर्फ 3 घंटे ही खेल पाएंगे ऑनलाइन गेम

SC ने रचा इतिहास, CJI ने एक साथ 9 जजों को दिलाई शपथ

किसानों से अन्याय कर रही भाजपा : आप