नागपुर. देश में कोरोनावायरस की दूसरी लहर ने खतरनाक रूप ले लिया है. बढ़ते कोरोना मामलों के कारण देश भर के अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन और दवाओं की भारी कमी देखी जा रही है. महाराष्ट्र राज्य में नागपुर जिले का एक बुजुर्ग जो कोरोना पॅाजिटिव थे उन्होंने जाते-जाते मानवता की एक मिसाल कायम की है. 85 वर्षीय नारायण भाऊराव दाभदकर ने एक युवा के लिए अपना बेड छोड़ दिया, और कहा, ‘मैंने अपना पूरा जीवन जिया है, लेकिन इस आदमी के पीछे एक पूरा परिवार है, उसके बच्चे अनाथ हो जाएंगे.’

नारायण राव अस्पताल का बिस्तर युवक के लिए छोड़कर घर चले गए और तीन दिनों के भीतर उनकी मृत्यु हो गई. मामले की जानकारी मिलने के बाद हर कोई राव की तारीफ कर रहा है. खबरों के मुताबिक, नागपुर निवासी नारायण भाऊराव दाभदकर कोरोना से संक्रमित हो गए थे. उनका ऑक्सीजन स्तर 60 से नीचे आ गया था. उन्हें अपने दामाद और बेटी द्वारा बहुत संघर्ष के बाद इंदिरा गांधी सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. काफी प्रयास के बाद नारायण राव को भी बिस्तर मिल गया था.

इस बीच, एक महिला अपने 40 वर्षीय पति को लेकर रोती हुई अस्पताल पहुंची. महिला अपने पति के लिए बिस्तर ढूंढ रही थी. महिला के दर्द को देखकर, नारायण ने डॉक्टर से कहा, “मैंने 85 साल की उम्र पार कर ली है. मैंने बहुत कुछ देखा है, मैंने अपना जीवन जिया है. इस महिला के पति को मुझसे ज्यादा बिस्तर की जरूरत है.व्यक्ति के बच्चों को उनके पिता की जरूरत है. अन्यथा नहीं.” वे अनाथ हो जाएंगे. ” तब नारायण ने अपना बिस्तर महिला के पति को सौंप दिया. कोरोना संक्रमित नारायण ने घर पर इलाज किया लेकिन तीन दिन बाद उसकी मृत्यु हो गई. नारायण कथित तौर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े थे.

Tripura DM Raids Wedding Halls : त्रिपुरा के डीएम ने छापे के दौरान पकड़ा दुल्हे का कॉलर, पंडित को मारा थप्पड़, बाद में मांगी माफी, वीडियो वायरल

Agra Hospital Staff Violence: सेप्टीसीमिया रोगी के मृत्यु की अफवाह से भड़के परिजन, अस्पताल कर्मचारियों के साथ की मारपीट

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर