नई दिल्लीः दिल्ली के स्वरुप नगर से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है. स्वरुपनगर में एक सात साल के बच्चे का अपहरण कर हत्या कर दी गई और हत्या करने के बाद उसके शव को 38 दिनों तक आरोपी ने सूटकेस में छिपाकर रखा था. वारदात का खुलासा पुलिस द्वारा संदेह के आधार पर आरोपी से कड़ी पुछताछ करने पर हुआ. पुलिस की कड़ाई के आगे आरोपी ने अपना गुनाह कबूल लिया. आरोपी ने 7 जनवरी को बच्चे का अपहरण कर लिया था. परिजनों ने बच्चे की गुमशुदा होने की रिपोर्ट थाने में दर्ज करा बच्चे का पता बताने वाले को 25 हजार के इनाम की घोषणा भी कर दी थी.

पुलिस उपायुक्त असलम खान ने बताया कि बच्चे का अपहरण आरोपी अवधेश ने पैसों के लिए किया था. अवधेश मृतक बच्चे के पिता का दूर का रिश्तेदार है और स्वरुपनगर में उनके घर के पास ही रहता था. पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक पैसों के लालच में किए गए इस अपहरण में बात खुल जाने के डर से अवधेश ने बच्चे की हत्या कर उसके शव को प्लास्टिक में बांधकर एक अटैची में उसका शव पैक कर दिया था. पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि बच्चे की हत्या कर उसकी बॉडी को ठिकाने लगाने के बाद उसने फिरौती मांगने का प्लान बनाया था जिसमें वो बच्चे के परिजनों ने 15 लाख की फिरौती मांगने वाला था लेकिन कामयाब नहीं हो सका.

अपहण करने के बाद आरोपी अवधेश ने बच्चे के पिता करण सैनी के साथ जाकर पुलिस थाने में एफआईआर भी दर्ज करवाई थी ताकि उसपर किसी को कोई शक ना हो. पुलिस ने बताया कि बच्चे की हत्या करने के बाद अवधेश ने शव को सूटकेस में पैक कर अपने कमरे में रखा हुआ था और उसपर लगातार परफ्यूम छिड़कता रहता था ताकि किसी को शव की बदबू ना आए.

 

हरियाणा: नाबालिग लड़की के बलात्कार और हत्या मामले में 12 कक्षा का छात्र है मुख्य संदिग्ध, पुलिस कर रही है तलाश

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App