नई दिल्लीः मुंबई की एक महिला का पति पॉर्न देखने का आदी हो गया. पति की इस हरकत से पत्नी परेशान हो गई और फिर वो उसे डॉक्टर के पास ले जाने के बजाय सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, महिला ने कोर्ट में अर्जी दाखिल कर बताया कि उनका पति नेट के जरिए पॉर्न देखने का आदी हो गया है. इस वजह से उनकी शादीशुदा जिंदगी तबाह हो गई है. वह पॉर्न की विक्टिम हो चुकी हैं. शादीशुदा महिला ने अदालत से गुहार लगाई कि देश में पॉर्न पर बैन लगाया जाए.

सुप्रीम कोर्ट में याचिकाकर्ता कमलेश वासवानी बनाम केंद्र सरकार से संबंधित मामले में मुंबई की रहने वाली शिल्पा (बदला हुआ नाम) ने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई है. शिल्पा ने याचिका में अदालत को बताया कि 10 मार्च, 2016 को उसकी शादी हुई थी. शादी के कुछ वक्त बाद तक सब कुछ सही था लेकिन इस बीच उसके पति को पॉर्न देखने की लत लग गई. उसका पति पॉर्न का इस कदर आदी हो गया कि उनकी शादीशुदा जिंदगी तबाह हो गई. तनावपूर्ण संबंधों के चलते वह मानसिक अवसाद से गुजर रही है. शिल्पा ने सरकार से गुहार लगाई है कि देश में चल रही सभी पॉर्न वेबसाइट्स पर बैन लगाया जाए.

गौरतलब है कि तीन साल पहले केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को इस संबंध में भरोसा दिलाया था कि पॉर्न साइट्स को ब्लॉक करने के लिए प्रयास किए जाएंगे लेकिन सरकार का यह भरोसा अभी दूर की कौड़ी जान पड़ता है. सुप्रीम कोर्ट ने फरवरी और मार्च 2016 में आदेश दिया था कि केंद्र सरकार की ओर से पेश एडिशनल सॉलिसिटर जनरल पिंकी आनंद इस मामले में निर्देश लेंगी कि संबंधित अथॉरिटी सुझाव दे कि किस तरह से इन साइट्स पर लगाम कसी जा सकती है. फिलहाल केस की सुनवाई अभी जारी है.

मोहब्बत के दिन पॉर्न साइट पॉर्न हब का खुलासा-साइट में वेलेंटाइन कीवर्ड पर आया 3481 प्रतिशत का उछाल