नई दिल्लीः देश के कई राज्यों में कैश की किल्लत का संकट पैदा हो गया है. एटीएम खाली पड़े हुए हैं. हालात कुछ हद तक नोटबंदी की याद दिला रहे हैं. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) जल्द हालात सामान्य होने की बात कह रहा है. वहीं दूसरी ओर केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि कुछ राज्यों में नोट ज्यादा चले गए हैं कुछ राज्यों में कम, जिसकी वजह से कैश की किल्लत महसूस की जा रही है. हालांकि उन्होंने किसी तरह के आर्थिक संकट की खबरों को सिरे से खारिज कर दिया.

शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि वित्त मंत्रालय ने इस मामले में कमेटी बनाई है. आरबीआई से आग्रह करने के बाद रिजर्व बैंक ने कैश की कमी को खत्म करने के लिए कमेटी का गठन किया है. कुछ राज्यों में ज्यादा कैश तो कुछ में कम, इस असामनता को हम बराबर करने का प्रयास कर रहे हैं. एक-दो दिन में हालात सामान्य हो जाएंगे. केंद्रीय मंत्री ने देश में कैश की कमी को नकारते हुए कहा कि देश में पैसे की कोई कमी नहीं है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उनके पास खुद 2000 के 6 नोट हैं, कुछ लोग अपने पास और ज्यादा करेंसी रखते हैं, ऐसा करने वालों से निवेदन है कि कैश अपने पास जमा न करें. पैसा प्रचलन में रहता है तो जनता और सरकार दोनों को इसका फायदा मिलता है.

शिव प्रताप शुक्ला ने कहा, ‘रिजर्व बैंक के पास 1,25,000 करोड़ रुपये की नकदी है. असामनता की वजह से यह समस्या बनी हुई है, जिसे दुरुस्त करने की कोशिश जारी है. गठित कमेटी सुनिश्चित करेगी कि एक से दूसरे राज्य तक नकदी का ट्रांसफर हो सके.’ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के जमाखोरी के बयान पर शुक्ला ने कहा, ‘कुछ लोगों की जमाखोरी की आदत होती है. हमारी अर्थव्यवस्था बेहद मजबूत है. हम किसी प्रकार की कोई परेशानी महसूस नहीं कर रहे हैं. हमारे पास 500 के पर्याप्त नोट हैं, जिन्हें आगे मुहैया कराया जा रहा है.’

बताते चलें कि सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कैश की किल्लत को साजिश करार देते हुए कहा था, ‘16.5 लाख करोड़ नोट छापे गए और मार्केट में सर्कुलेट हो चुके हैं, लेकिन 2000 के नोट कहां जा रहे हैं? कौन लोग नकदी संकट जैसा माहौल बनाने की कोशिश कर रहे हैं? देश में नकदी संकट पैदा करने की साजिश चल रही है और राज्य सरकार सख्त कदम उठाएगी. हम केंद्र सरकार के संपर्क में भी हैं.’

कई राज्यों में फिर खाली हुए ATM, नोटबंदी जैसे हालातों पर RBI ने कहा- जल्द सामान्य होगी स्थिति

नोटबंदी का फ़ैसला बिना सोचे-समझे लिया गया था, नहीं हुआ कोई फायदा: रघुराम राजन

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App