नई दिल्ली/ पेट्रोल डीजल के दामों के वजह से आम आदमी वैसे ही परेशान है. रोजमरा की चीजों के दाम भी बढ़ते ही जा रहे है. पहले से ही आम आदमी के घर का बजट हिला पड़ा है. रसोई गैस सिलेंडर, सब्जियां और अब दूध भी महंगा होने वाला है. दूध उत्पादकों का कहना है कि पेट्रोल और डीजल के महंगे होने से ट्रांसपोर्टेशन का चार्ज बढ़ गया है और पशु आहर भी महंगा हो गया है. जिससे दूध के दाम बढ़ाने की अलावा कोई और रास्ता नहीं है.

दरअसल, मंगलवार को रतलाम के कालिका माता परिसर के राम मंदिर में बैठक हुई. जिसमें करीब 25 गांवों के दूध उत्पादक शामिल हुए. उन्होंने 1 मार्च से दूध के दामों में 55 रुपए प्रति लीटर तक इजाफा करने का निर्णय लिया है. क्योंकि महंगे पेट्रोल-डीजल की वजह से उनके आर्थिक हालात खराब हो गए हैं. इतना ही नहीं उन्होंने ये भी चेतावनी दी है कि अगर दूध के भाव बढ़ाने की मंजूरी नहीं मिली तो वो दूध की सप्लाई को रोक देंगे.

पिछले साल भी दूध के दाम बढ़ाने का फैसला लिया जा रहा था लेकिन तब कोरोना के कारण दूध के भाव नहीं बढ़ाए गए थे. लेकिन अब पेट्रोल-डीजल के दामों में हुई बढ़ोत्तरी के कारण ट्रांसपोर्टेशन महंगा हुआ है. भूसा और खली भी महंगी मिल रही है. उन्होंने आगे कहा कि अब शहर के दूध विक्रेताओं से चर्चा की जाएगी और आगे फैसला लिया जाएगा.

LPG Cylinder Price Hike: फिर 25 रुपए महंगा हुआ रसोई गैस सिलेंडर, जानिए क्या हो गए नए रेट्स

Petrol Diseal Price Today: दो दिन की शांति के बाद पेट्रोल डीजल के दामों ने फिर तोड़े रिकॉर्ड, जानिए आपके शहर के तेल के दाम

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर