लखनऊ. देश के कई हिस्सों में नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध हो रहा है. इसी क्रम में अब उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी एक बयान दिया है. सीएए (CAA) को लेकर मायावती ने कहा कि मैं केंद्र सरकार से इस असंवैधानिक कानून को वापस लेने की मांग करती हूं, अन्यथा भविष्य में इसके परिणाम गलत हो सकते हैं. सरकार को आपातकाल जैसे हालात पैदा नहीं करने चाहिए जैसे कांग्रेस ने पहले किए थे.

इसके साथ ही मायावती ने कहा- बसपा के संसदीय दल ने राष्ट्रपति से मिलने का समय भी मांगा है. हमारी पार्टी यूपी विधानसभा में भी नागरिकता संशोधन अधिनियम (Citizenship Amendment Act) और महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों पर आवाज उठाएगी.

मायावती का विरोध इसलिए भी है क्योंकि प्रदेश में उनका मुस्लिम वोट अधिक है और अधिकतर मुस्लिम लोग इसका विरोध कर रहे हैं. शायद यही वजह है कि मयावती को अपना वोट बैंक याद आ गया क्योंकि अगर वह इसके खिलाफ विरोध नहीं करतती हैं तो उनका वोट बैंक खत्म हो सकता है. अमरोहा से बीएसएपी सांसद दानिश अली भी मायावती के लिए मुस्लिम वोट के लिए मुख्य चेहरा हैं और इसके साथ ही वह लोकसभा में बसपा दल के नेता भी हैं.

हालांकि मायावाती की पार्टी ने पहले से इसका विरोध किया है. मायावती ने CAA को लेकर पहले ही कहा था कि बी.एस.पी. का पुनः यह कहना है कि नागरिकता संशोधन विधेयक पूर्णतः विभाजनकारी व असंवैधानिक है. इसकी वजह से ही बी.एस.पी. ने लोकसभा में इसके विरोध में अपना मत दिया है और राज्यसभा में भी बी.एस.पी. का यही स्टैण्ड रहेगा.

कुछ दिन पहले भी मायावती ने ट्वीट किया था कि नए नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में की गई हिंसा में पहले उत्तर प्रदेश की अलीगढ़ व फिर जामिया यूनिवर्सिटी में तथा पूरे जामिया क्षेत्र में भी जो काफी बेकसूर छात्र व आमलोग शिकार हुए हैं यह अति दुर्भाग्यपूर्ण है तथा पार्टी पीड़ितों के साथ है. इसके आगे उन्होंने कहा कि ऐसे में उ.प्र. व केन्द्र सरकार को चाहिये कि वे इन वारदातों की उच्च स्तरीय न्यायिक जांच कराये और उनके मूल दोषी किसी भी कीमत पर बचने नहीं चाहिये तथा पुलिस व प्रशासन को भी निष्पक्ष रूप में कार्य करना चाहिए.

ये भी पढ़ें

Shivpal Yadav on Alliance with SP Akhilesh Yadav: शिवपाल सिंह यादव बोले- सरकार बनेगी तो सीएम अखिलेश यादव ही बनेंगे, सपा और प्रसपा का होना चाहिए गठबंधन

Mayawati to withdraw Guest House Case Against Mulayam Singh: अखिलेश यादव के अनुरोध पर मुलायम सिंह यादव के खिलाफ 24 साल पुराना लखनऊ स्टेट गेस्ट हाउस केस वापस लेगी मायावती!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर