मुंबई. महाराष्ट्र में सोमवार को हज़ारों किसान और आदिवासी अपनी मांगों को लेकर नासिक से 180 किलोमीटर का पैदल मार्च करते हुए मुंबई के आज़ाद मैदान पहुंचे. इस दौरान सुरक्षा कारण से मुंबई क्राइम ब्रांच की 8 टीमों ने भी किसानों के भेष में उनके साथ मार्च किया. इस मार्च को लेकर सरकार इतनी चिंतित थी कि किसानों के बीच क्राइम ब्रांच की आठ टीमों को किसानों के भेष में उनके बीच तैनात किया गया था जो विखरोली से आजाद मैदान तक उनके साथ चले. ये किसान रात भर मार्च करते रहे. वे सुमैया ग्राउंड से आजाद मैदान बिना रुके 5 घंटों तक चले ताकि मुंबई के लोगों को जाम का सामना न करना पड़े. इसके अलावा एसएससी का एग्जाम दे रहे छात्रों को भी परेशानी न हो.

सभी अधिकारियों को किसानों की तरह लाल रंग की टोपियां और सफेद कपड़े पहनाए गए थे. मुंबई पुलिस विभाग का कहना है कि अधिकारियों को भेष बदलकर तैनात किए जाने का आदेश इसलिए दिया गया था ताकि इस बीच कोई आशांति न हो. ये आदेश मुंबई पुलिस कमीश्नर की ओर से दिया गया था. इस बात को पूरी तरह गुप्त रखा गया था और वरिष्ठ अधिकारियों को व्हाट्सएप के जरिए इसकी जानकारी दी गई थी. किसानों के बीच तैनात इन टीमों का नेतृत्व डीसीपी लेवल के अधिकारी कर रहे थे. क्राइन ब्रांच की आठ यूनिट की आठ टीमों को इसके लिए भेजा गया था.

पुलिस विभाग के सूत्र ने बताया कि ‘हमने न्यूज चैनलों पर खबर देखकर किसानों की वेशभूषा को अच्छी तरह समझ लिया जिसके बाद अपने अधिकारियों के लिए उसी तरह की लाल टोपियां और धोती कुर्ते ले आए. एक टीम चुपचाप विखरोली से जबकि बाकी टीमें सोमैया ग्राउंड से किसानों की भीड़ से जुड़ गई.’ इसके अलावा पूरे मार्च के दौरान हमने किसानों और खासकर उनके नेताओं की वीडियो भी बनाई. उन्होंने बताया कि किसान जैसे ही मुंबई के भीतर पहुंचे उनके चारों ओर घेरा बना दिया गया. खासकर आजाद मैदान पूरी तरह घेराबंदी कर दी गई थी. पुलिस ने ध्यान रखा कि एक भी किसान मैदान से बाहर न जाए. साथ ही किसानों ने मुंबई में कोई नुकसान नहीं पहुंचाया है.

महाराष्ट्र : किसान आंदोलन की वो फोटो जिन्होंने देश को हिलाकर रख दिया

30 हजार से ज्यादा किसान लॉन्ग मार्च कर पहुंचे मुंबई के आजाद मैदान, आज करेंगे महाराष्ट्र विधानसभा का घेराव

पदयात्रा करते हुए 35 हजार किसान नासिक से मुंबई पहुंचे, सोमवार को महाराष्ट्र विधानसभा के घेराव का ऐलान

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App