नई दिल्ली. महाराष्ट्र में सियासी संकट गहरा गया है. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने बीजेपी के देवेंद्र फडणवीस को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया था. सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते भाजपा को यह न्योता दिया गया था लेकिन आज बीजेपी नेताओं की कई राउंड की बैठक के बाद भी भाजपा कोई हल नहीं निकाल पाई. उन्होंने राज्यपाल को जानकारी दी कि हमारे पास नंबर नहीं है.

इसके बाद राज्यपाल ने दूसरे सबसे बड़े दल शिवसेना को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया है. एनसीपी नेता नवाब मलिक ने साफ किया है कि शिवसेना को सपोर्ट चाहिए तो उसे एनडीए से सारे रिश्ते तोड़ने होंगे. वहीं महाराष्ट्र कांग्रेस के विधायकों से आज वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने मुलाकात की. अब शिवसेना को बहुमत जुटाने के लिए कांग्रेस और एनसीपी दोनों का साथ चाहिए होगा.

वहीं एनसीपी के नेता नवाब मलिक ने कहा अगर गवर्नर शिवसेना को सरकार बनाने के लिए दावा करने के लिए आमंत्रित करते हैं तो हम अपने अगले कदम के बारे में सोचेंगे. अभी हमें शिवसेना से कोई प्रस्ताव नहीं मिला है और पवार साहब द्वारा घोषित अंतिम निर्णय कांग्रेस और एनसीपी मिलकर लेंगे. हमने 12 नवंबर को अपने विधायकों की बैठक बुलाई है. 

यदि शिवसेना हमारा समर्थन चाहती है, तो उन्हें यह घोषणा करनी होगी कि उनका भाजपा के साथ कोई संबंध नहीं है और उन्हें एनडीए से बाहर होना होगा. इसके साथ केंद्रीय मंत्रिमंडल से उनके मंत्री को इस्तीफा देना होगा.

महाराष्ट्र में सत्ता का समीकरण

महाराष्ट्र की 288 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के लिए 145 विधायक चाहिए. बीजेपी के पास 105 सीटें हैं. शिवसेना के पास 56 सीटें हैं. अब इन दोनों की राहें जुदा लग रही हैं. ऐसे में महाराष्ट्र में सत्ता की कुंजी एनसीपी और कांग्रेस के पास चला गई है.एनसीपी के पास 54 सीटे हैं. अगर इन दोनों को जोड़ दें तो आंकड़ा 110 बैठता है. कांग्रेस और एनसीपी सहयोगी हैं. ऐसे में कांग्रेस के 44 विधायक भी शिवसेना को सपोर्ट करे तो यह संख्या 154 हो जाती है. इस तरह बीजेपी को सत्ता से बाहर करने के लिए शिवसेना को एनसीपी और कांग्रेस का साथ चाहिए होगा.

ये भी पढ़ें

Maharashtra Govt Formation BJP, Shivsena, NCP, Congress Live Updates: महाराष्ट्र में राज्यपाल का शिवसेना को सरकार बनाने का न्योता, शरद पवार की उद्धव ठाकरे से फोन पर बातचीत, एनसीपी ने रखी एनडीए छोड़ने की शर्त

Maharashtra President Rule Imminent: महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने वाला है, विधानसभा भंग होने के आखिरी दिन तक बीजेपी, शिवसेना, एनसीपी, कांग्रेस में कोई बहुमत के साथ सरकार बनाने को तैयार नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App