यवतमाल: महाराष्ट्र के एक गांव से दुखद खबर सामने आई है जहां जहरीला पानी पीने से 14 लोगों की मौत हो गई. वहीं करीब 38 लोगों को गंभीर हालात में अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनका उपचार चल रहा है. इस मामले में ग्रामीणों का कहना है कि एक 250 फुट बोरवेल से निकलने वाले दुषित पानी की वजह से गांव के लोगों की मौत हो रही है. इस बात की शिकायत पहले भी स्थानीय प्रशासन से की जा चुकी है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह मामला यवतमाल जिले के एक गांव का है. जहरीला पानी पीने से 14 लोगों की मौत हो गई और 38 लोग गंभीर रूप से बीमार हो गए हैं. उन सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. आचार्य विनोबा भावे ग्रामीण हॉस्पिटल के डॉ. अभ्यूदय मेघे ने बताया कि इस मामले में 38 लोग अस्पताल में भर्ती हुए हैं जिनमें करीब 13 लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है. डॉ. अभ्यूदय मेघे ने बताया कि सभी में किरेटिन की ज्यादा मात्रा पाई गई है. पानी में नाइट्रेट की मात्रा भी ज्यादा मिली है.

वहीं ग्रामीणों का इस मामले में कहना है कि जहरीले पानी की शिकायत उन्होंने काफी पहले ही स्थानीय प्रशासन से की थी लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं की गई. यहां तक पानी के जांच तक के लिए कोई नहीं आया. लोगों के मरने पर भी प्रशासन चुप बैठा रहा. आपको बता दें कि बीते साल यवतमाल में जहरीले कीटनाशक की चपेट में आकर 20 किसानों की जान गई थी. इसके साथ ही करीब 700 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

महाराष्ट्र : किसान आंदोलन की वो फोटो जिन्होंने देश को हिलाकर रख दिया

मिलावटी दूध बेचा तो तीन साल तक पीसनी पड़ सकती है जेल की चक्की, नया बिल लाने की तैयारी में महाराष्ट्र सरकार

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने लिखित में दिया मांगें पूरी करने का आश्वासन, किसानों ने खत्म किया आंदोलन

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App