भोपालः मध्य प्रदेश के शिवपुरी में सुल्तानगढ़ के पास एक झरने पर पानी का बहाव तेज हो जाने पर वहां पिकनिक मना रहे 11 लोग बहाव तेज होने के कारण बह गए लेकिन पानी के बहाव के बीच चट्टानों के बीच फंसे 45 लोगों को पूरी रात चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद एसडीआरएफ की टीम ने कड़ी मशक्क्त करते हुए सुरक्षित बाहर निकाल लिया है. जानकारी के मुताबिक स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बड़ी संख्या में लोग यहां पिकनिक मनाने के लिए जुटे थे. पानी में फंसे 5 लोगों को हेलीकॉप्टर की सहायता से निकाला गया तो बाकी 40 लोगों को रस्सियों के सहारे बचाया गया. पूरा रेस्कयू ऑपरेशन देख रहे एसपी हिंगानकर ने बचाव अभियान सफल होने की जानकारी मीडिया को दी.

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, 15 अगस्त को छुट्टी होने के चलते लगभग 60 से 70 लोग झरने में नहा रहे थे लेकिन इसी दौरान बारिश के चलते वहां का जलस्तर बढ़ गया. जिससे वहां मौजूद लोगों में दहशत मच गई जिसके बाद लोग वहां से जान बचाने के लिए भागने लगे. इस दौरान 10 लोग पानी के तेज बहाव में बह गए जबकि 45 लोग झरने के बीच में ही फंस गए. लेकिन एसडीआरएफ की टीम ने पूरी बहादुरी के साथ पूरी रात बचाव अभियान चलाकर फंसे हुए लोगों को निकाल लिया.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस हादसे पर चल रहे बचाव अभियान पर लगातार नजर बनाए रखी थी. जिसके बाद उन्होंने ट्वीट कर ऑपरेशन पूरा होने की जानकारी दी जिसमें उन्होंने कहा, ‘बीएसएफ, एसडीआरएफ, मध्यप्रदेश पुलिस और स्थानीय लोगों की मदद से ये मिशन सफल रहा. झरने के पानी में फंसे सभी लोगों को बचा लिया गया है. इससे पहले इस घटना पर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि बिना सूचना के बांध का पानी छोड़ा गया जिसमे अचानक ही झरने का जलस्तर बढ़ गया.

Madhya Pradesh Waterfall Accident Live Update:

 

उत्तराखंड समेत देश के इन 16 राज्यों में अगले दो दिन भारी बारिश का अलर्ट, लोगों को घरों में रहने की सलाह

केरल बारिश: बाढ़ और भूस्खलन से अब तक 26 लोगों की मौत, सेना तैनात, PM नरेंद्र मोदी ने CM से की बात

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App