नई दिल्ली. एक महिला पत्रकार के साथ उबर कैब में कथित तौर पर हुई एक भयावह घटना सामने आई है. उस वक्त  महिला इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट जा रही थी. महिला ने अपनी आपबीती फेसबुक पोस्ट के जरिए बयां की है. महिला ने लिखा, मुझे दिल्ली में हमेशा शांति मिली है, लेकिन ये 5 मिनट मेरे दिमाग से कभी नहीं जाएंगे. जल्दी या देर से सही, दिल्ली ने मुझे एक सबक सिखा दिया, जो कोई याद नहीं रखना चाहेगा.

फेसबुक पोस्ट में न्यूज एक्स की पत्रकार जानकी दवे ने 12 फरवरी को हुई घटना का जिक्र किया, जब वह नोएडा से दिल्ली एयरपोर्ट जा रही थी. उन्होंने लिखा, मेरी फ्लाइट रात 8.05 बजे थी. लेकिन मैं 2 घंटे जाम में फंसी रही. समय 7.20 मिनट हो चुका था. मुझे पता था कि मैं फ्लाइट पकड़ नहीं पाऊंगी. 7.32 मिनट पर मैंने विनम्रतापूर्वक ड्राइवर से कहा कि क्या वह वापस मुझे नोएडा छोड़ सकते हैं. उसके मना करने के बाद मैंने उसे एयरपोर्ट के टर्मिनल-3 पर उतारने को कहा, जहां यात्रा खत्म होनी थी. मैंने देखा कि ड्राइवर के सब्र का बांध टूट रहा था. लेकिन मुझे इस बात का आभास नहीं हुआ कि अगले 5 मिनट में मेरे साथ क्या होने वाला है.

महिला ने लिखा, ड्राइवर ने कार एयरपोर्ट न ले जाकर यू-टर्न लिया और गाड़ी फ्लाईओवर के नीचे खड़ी कर दी. इसके बाद उसने गाड़ी वसंत एनक्लेव के पास बीच सड़क पर खड़ी कर दी और सामान गाड़ी से बाहर फेंकने लगा. उसने मेरा लैपटॉप भी फेंक दिया. महिला ने ड्राइवर को रोकने की कोशिश की, लेकिन उसके बाद और भी बदतर हुआ. धीरज नाम के ड्राइवर ने महिला को गालियां देते हुए शारीरिक उत्पीड़न की धमकी दी. ड्राइवर ने कहा, मार डालूंगा, लड़की है, संभलकर रह. महिला ने कहा कि उस वक्त करीब 15 लोग वहां थे, लेकिन कोई कुछ नहीं बोला. महिला ने कैब कंपनी के पास इस मामले की शिकायत की है, फिलहाल कैब ड्राइवर पर कोई एक्शन नहीं लिया गया है.

पत्रकार की फेसबुक पोस्ट:

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App