लखनऊ. राजस्थान विधानसभा चुनाव में एक सभा के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी को गैर ब्राह्मण कहने वाले कांग्रेस नेता सीपी जोशी के विवादित बयान के बाद यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुनाव प्रचार के दौरान भगवान हनुमान को दलित बता दिया. इस बयान से भड़की ब्राह्मण सभा ने बजरंग बली को जाति में बांटने का आरोप लगाते हुए योगी आदित्यनाथ को कानूनी नोटिस भेजा है. वहीं कांग्रेस पार्टी ने भी योगी आदित्यनाथ के बयान पर बीजेपी और योगी पर हमला बोला है.

गौरतलब है कि सीएम योगी राजस्थान विधानसभा चुनाव के दौरान बतौर स्टार प्रचारक अलवर जिले के मालाखेड़ा पहुंचे थे. जहां एक सभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने भगवान हनुमान को वनवासी, दलित, गिरवासी और वंचित बताया. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हनुमान जी ऐसे लोक देवता हैं जो गिर वासी हैं, दलित हैं, स्वयं वनवासी और वंचित हैं. साथ ही योगी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी राम भक्त बीजेपी और रावण भक्त कांग्रेस को वोट दें.

वहीं राजस्थान के नाथद्वार में कांग्रेस के दिग्गज सीपी जोशी ने एक चुनाव सभा के दौरान जाति और धर्म को लेकर विवादित बयान दिया था. उन्होंने कहा कि सिर्फ ब्राह्मण ही धर्म के बारे में बोल सकता है. इसके साथ ही सीपी जोशी ने पीएम नरेंद्र मोदी की जाति पर सवाल उठाते हुए उन्हें गैर ब्राह्मण करार दिया.

खबरों की मानें तो योगी ने इस बयान से जातिगत वोट बैंक साधने की कोशिश की है. राज्य का कुल हिस्सा 17.8 दलित समुदाय से है जिसपर सभी पार्टियों की नजर बनी हुई है. दूसरी ओर योगी का यह बयान राजनीतिक तूल पकड़ गया. कांग्रेस पार्टी ने योगी के बयान को लेकर जमकर हमला बोला तो वहीं बीजेपी भी इस बयान से किनारा करती नजर आई. रिपोर्ट्स की मानें तो केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर जवाब देते समय बात को टालते हुए नजर आए.

Yogi Adityanath Called Hanuman Dalit Adiwasi: योगी आदित्यनाथ का विवादित बयान, राजस्थान में चुनाव प्रचार के दौरान बजरंगबली हनुमान को बताया दलित आदिवासी

CP Joshi Brahmin Controversy Statement: सीपी जोशी को चुनाव आयोग का नोटिस, जाति पर दिया था विवादित बयान

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर