लखनऊ. Lakhimpur Kheri Violence उत्तर प्रदेश का लखीमपुर खीरी जिला रविवार की शाम अचानक खून से नहा उठा। यहां किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। सब कुछ सामान्य था, लेकिन शाम होते-होते मामले ने हिंसक मोड़ ले लिया। केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे अशीष मिश्रा उर्फ मोनू और उसके समर्थकों पर प्रदर्शन कर रहे किसानों पर गाड़ी चढ़ाने का इल्जाम है। वहीं उग्र भीड़ ने टेनी के ड्राइवर सहित चार लोगों की पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया

किसानों ने मोनू की गाड़ी सहित तीन गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। बाकी वाहनों को पलटा दिया। ड्राइवर जिसे पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया गया, वह हाथ जोड़कर अपनी जिंदगी की भीख मांगता रहा, लेकिन गुस्साई भीड़ ने उसे पीट-पीटकर मार डाला। ड्राइवर का एक वीडियो भी सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है।

वीडियो में नज़र आ रहा है कि ड्राइवर के सिर से खून निकल रहा है। वह काफी डरा हुआ है। उसके चेहरे और आंखों में मौत का खौफ साफ नज़र आ रहा है। वह सामने खड़ी भीड़ पर कभी दाएं देखता है तो कभी बाएं। ड्राइवर हाथ जोड़कर कह रहा है दादा-दादा….छोड़ दो। लेकिन कोई उसकी बात नहीं सुन रहा है, उलटा भीड़ में कुछ लोग उससे जबरन कहलवा रहे हैं कि बोल ‘टेनी ने लोगों को मारने के लिए भेजा था। गाड़ी चढ़ाने के लिए कहा था।’

ड्राइवर कह रहा है ‘टेनी ने भेजा था लेकिन गाड़ी चढ़ाने के लिए नहीं..।’ फिर कुछ उपद्रवी उसे डंडा दिखाते हैं और जबरन मनमानी बात कहने के लिए बोलते हैं। जब ड्राइवर ऐसा नहीं करता है, तो फिर उपद्रवी उस पर टूट पड़ते हैं। कुछ लोग ड्राइवर पर डंडे लेकर उसे पीटना शुरू कर देते हैं। जमीन पर हाथ जोड़कर ड्राइवर उनसे छोड़ने के लिए गिड़गिड़ाता है, मगर उसकी कोई नहीं सुनता। कुछ लोग चिल्लाते हैं, ‘मारो…को…मार डालो सा…को’। बीच-बीच में कुछ लोग गालियां भी देते हैं। ड्राइवर जान की भीख मांगता है, लेकिन किसी का दिल नहीं पसीजता, उपद्रवी उसे लाठी-डंडों से लगातार पीटते रहते है।

Lakhimpur Kheri Violence : हो गया समझौता, मृतकों के परिजनों को 45 लाख मुआवज़ा, सरकारी नौकरी मिलेगी

Lakhimpur Kheri Violence: लखीमपुर खीरी हिंसा में 8 मारे गये, प्रियंका हिरासत में

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर