नई दिल्लीः दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने अपनी महत्वाकांक्षी योजना ‘डोर स्टेप डिलीवरी ऑफ सर्विसेज़’ का शुभारंभ कर दिया है. भारत ही नहीं बल्कि अपनी तरह की दुनिया की पहली इस तरह की योजना बताई जा रही इस स्कीम को लॉन्च करते समय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस राज से पर्दाफाश किया कि आखिर यह आइडिया उन्हें किसने दिया था. केजरीवाल ने बताया कि इसके पीछे उनके टेक्निकल एडवाइजर गोपाल मोहन का दिमाग है. गोपाल मोहन की तारीफ करते हुए केजरीवाल ने कहा कि उनके पूरे होमवर्क के बाद ही सरकार ने इस पर काम शुरू किया और इस योजना को हकीकत में तब्दील किया. अरविंद केजरीवाल ने इस योजना को दुनिया के सभी देशों में पहली बार लागू होने वाली योजना करार दिया.

IIT दिल्ली से एनर्जी स्टडीज़ में मास्टर गोपाल मोहन वर्तमान में सीएम अरविंद केजरीवाल के टेक्नोलॉजी और एंटी करप्शन मामलों के सलाहकार हैं. गोपाल मोहन अन्ना आंदोलन के समय से अरविंद केजरीवाल के साथ देखे जा रहे हैं. वह केजरीवाल की कोर टीम का हिस्सा हैं. मीडिया से दूर रहने वाले गोपाल मोहन के बारे में बताया जाता है कि वह काफी सादगी पसंद इंसान हैं. वह पिछले तीन साल से डोर स्टेप डिलीवरी योजना पर काम कर रहे थे.

सरकारी सेवाओं की डोर स्टेप डिलीवरी स्कीन के साथ-साथ राशन की डोर स्टेप डिलीवरी का आइडिया भी उन्हीं का था. इसके साथ-साथ गोपाल मोहन दिल्ली सरकार की फ्री वाईफाई स्कीम और समूची राजधानी में सीसीटीवी कैमरों के मामले में भी काम कर रहे हैं. बताते चलें कि सीएम अरविंद केजरीवाल सप्ताह में तीन दिन जनता दरबार लगाते हैं. सीएम के जनता दरबार का भी ज्यादातर काम गोपाल मोहन ही देखते हैं. उनकी कोशिश रहती है कि जनता की ज्यादा से ज्यादा समस्याओं का कम समय में निपटारा किया जा सके. गोपाल मोहन के बारे में विस्तार से जानने के लिए नीचे दिया गया वीडियो देखें.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से एक्शन में अरविंद केजरीवाल: डोरस्टेप राशन डिलीवरी और सिग्नेचर ब्रिज चालू करने, सीसीटीवी लगाने का आदेश

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App