नई दिल्ली/ दिल्ली पुलिस ने अब आंदोलन में बैठे किसानों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. दिल्ली पुलिस ने गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलनकारी किसानों को जगह खाली करने के लिए कहा गया है. तो वहीं टिकरी बॉर्डर पर कुछ प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार भी किया गया है. टिकरी बॉर्डर पर लगाये गए नोटिस के बाद किसानों में रोष बढ़ता जा रहा है. हालांकि संयुक्त किसान मोर्चा के नेता इसे केंद्र सरकार की ‘बदले की कार्रवाई’ बता रहे हैं और पुलिस के खिलाफ लगातार किसानों को भड़काने में लगे हुए हैं. हालाँकि, अब उन्हें समर्थन नहीं मिल रहा.

इस मामले पर संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से डॉ. दर्शनपाल ने अपना बयान जारी करते हुए इस कार्रवाई  को किसानों को बदनाम करने की साजिश बताई है और इसके साथ उन्होंने स्पष्ट किया कि इस तरह की कार्रवाई से किसान आंदोलन कमजोर होने के बजाय मजबूत होता जाएगा.

संयुक्त किसान मोर्चा के डॉक्टर दर्शन पाल ने बयान में कहा कि किसानों के संघर्ष को बदनाम करने आये भाजपा के नेता व कार्यकर्ताओं ने किसानों के साथ मारपीट की. पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई करने की बजाय किसानों को ही गिरफ्तार कर लिया. सरकार के किसान विरोधी साजिशों का हम कड़ा विरोध करते है. भाजपा द्वारा किसान आंदोलन को बदनाम करने की रोज कोशिशें की जा रही है. हम इसे सफल नहीं होने देंगे और किसानों का यह संघर्ष जरूर कामयाब होगा.

किसानों नेता का कहना है कि हम पुलिस के इस कदम का पूरी तरह से विरोध करते है और किसानों से अपील करते है कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी रखे. इस तरह की धमकियां और चेतावनी से किसान आंदोलन को खत्म करने की साजिशों का सख्त विरोध किया जाएगा और इससे किसान संघर्ष और मजबूत होगा.

Farmers Rail Roko Protest: किसानों ने किया रेल का चक्का जाम, पटरियों पर बैठे किसान, रेलवे ने बढ़ाई सुरक्षा

PM Narendra Modi On Agriculture Reform: PM नरेंद्र मोदी ने राजा सुहेलदेव स्मारक का किया शिलान्यास, बोले- कृषि सुधारों को हो रहा दुष्प्रचार

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर