नई दिल्ली. कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई अब राज्य के नए मुख्यमंत्री होंगे। बसवराज बोम्मई ने कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ले ली है। हालांकि मंत्रिमंडल कक विस्तार बाद में होगा।

इससे पहले मंगलवार को विधायक दल की बैठक में येदियुरप्पा ने ही बोम्मई के नाम का प्रस्ताव रखा, जिसे मंजूर कर लिया गया. बीजेपी ने इस बार मुख्यमंत्री के चयन में साल 2011 वाली गलती नहीं दोहराई है बल्कि येदियुरप्पा को भरोसे में लेने के साथ-साथ उनकी पसंद और लिंगायत समुदाय की चाहत का भी ख्याल रखा है. बीजेपी ने बसवराज बोम्मई को कर्नाटक का सीएम बनाकर कई सियासी समीकरण साधे हैं।

बोम्मई लिंगायत चेहरा है और बीजेपी से तीन बार विधायक रहे हैं। लिंगायत समुदाय बीजेपी के ट्रेडिशनल वोटर्स रहे हैं और राज्य में करीब 19% है. खुद येदियुरप्पा भी लिंगायत के है। ऐसे में बीजेपी के सामने लिंगायत को चुनने की चुनौती थी। इसके अलावा बोम्मई की छवि साफ है साथ ही येदियुरप्पा के करीबी और चहेते भी है।

कर्नाटक की सत्ता की कमान संभालने जा रहे बसवराज बोम्मई को पूर्व मुख्यमंत्री बीएस ‘येदियुरप्पा की परछाई’  कहा जाता है। साल 2008 में बोम्मई को जनता दल से बीजेपी में लाने का काम येदियुरप्पा ने किया था, जिसके बाद से वह उनके सबसे करीबी नेता माने जाते हैं। येदियुरप्पा की अगुवाई वाली सरकार में बोम्मई गृह मंत्रालय, कानून और संसदीय कार्य और विधान मंत्री का पदभार संभाल रहे थे।

मौजूदा समय में बीजेपी येदयुरप्पा को नाराज करने का रिस्क नहीं उठा सकती थी। ऐसे में येदयुरप्पा के करीबी और लिंगायत समुदाय के नेता को सीएम बनाकर बीजेपी ने काफी हद तक समीकरण बैठाने की कोशिश की है।

Raj Kundra case: शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को कोर्ट ने दिया झटका, 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेजा

Yedurappa Resign: येदयुरप्पा का इस्तीफा, नए सीएम को लेकर हलचल तेज, सीएम पद की दौड़ में ये नाम आगे