नई दिल्ली. कर्नाटक में कांग्रेस और जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) के 16 बागी विधायक भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हो गए हैं. बागी विधायक मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा और प्रदेश अध्यक्ष नलिन कुमार कटील की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हुए हैं. इन 16 विधायकों को राज्य विधानसभा के अध्यक्ष केआर रमेश कुमार द्वारा अयोग्य घोषित किया गया था और उनकी अयोग्यता को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने साफ कह दिया था कि कोई भी स्पीकर विधानसभा के कार्यकाल के अंत तक किसी विधायक को अयोग्य नहीं ठहरा सकता है, इस फैसले का कर्नाटक के मुख्ययमंत्री बीएस येदियुरप्पा का स्वागत किया था.

इन विधायकों के जरिए बीजेपी का लक्ष्य प्रदेश में होने वाले 15 सीटों के उपचुनावों में से अधिकांश सीट पर जीत हासिल करना है. प्रदेश की 17 बची हुई सीटों में से 15 सीटों पर 5 दिसंबर को चुनाव होने हैं और उम्मीदवारों को 11 नवंबर से 18 नवंबर के बीच इन सीटों पर चुनाव के लिए नामांकन करना है. इन विधायकों द्वारा प्रतिनिधित्व किए गए 17 निर्वाचन क्षेत्रों में से पंद्रह पर उपचुनाव होंगे, जबकि मास्की और आरआर नगर निर्वाचन क्षेत्रों के लिए उपचुनाव रोक दिए गए हैं क्योंकि उनके संबंध में अलग मामले हैं.

15 निर्वाचन क्षेत्रों में से 12 कांग्रेस और तीन जेडीएस के विधायक हैं. होसकोटे में भाजपा के बागी और 2018 के विधानसभा चुनावों में हारने वाले उम्मीदवार शरथ बचचेगौड़ा ने स्वतंत्र रूप से उपचुनाव लड़ने का फैसला किया है. भाजपा को सत्ता में बने रहने के लिए उन 15 सीटों में से कम से कम 9 सीटें जीतने की आवश्यकता होगी. इस समय बीजेपी के पास 104 सीटें हैं और बहुमत के लिए सरकार को 113 सीटें चाहिए. 

बीजेपी में शामिल होने वाले अयोग्य कांग्रेस विधायक

प्रताप गौड़ा पाटिल (मास्की), बीसी पाटिल (हिरेकर), शिवराम हेब्बर (येलापुर), एसटी सोमशेखर (यशवंतपुर), बीरती बसवराज (केआर पुरम), आनंद सिंह (विजयनगर), मुन्नाथ। (आरआर नगर), के सुधाकर (चिक्कबल्लापुरा), एमटीबी नागराज (होसकोटे), श्रीमंत पाटिल (कागवाड), रमेश जारकीहोली (गोकक), महेश कुमारीपल्ली (अथानी) और आर शंकर (रानीबेनूर).

बीजेपी पार्टी में शामिल होने वाले जेडीएस के विधायक

के गोपालैया (महालक्ष्मी लेआउट), एएच विश्वनाथ (हुनसुर) और केसी नारायण गौड़ा (के आर पेट).

ये भी पढ़ें

महाराष्ट्र में फंसे सियासी संकट के बीच अमित शाह बोले- जिसके पास नंबर है वो राज्यपाल से मिलकर सरकार बना ले

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन, सरकार बनाने को लेकर एनसीपी-कांग्रेस और शिवसेना में बैठकों का दौर जारी, संजय राउत बोले- हमारा ही होगा अगला सीएम

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App