दरअसल अपने चुनावी भाषण में कमलनाथ ने कहा था, कि हमारी संस्कृति समाज को संजो के रखती है. उन्होंने कहा कि हमारा देश एक ऐसा देश है जहां एक झंडे के नीचे सारे धर्म, जातियां, के लोग प्रेम और सौहार्द के साथ रहते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति जिस पर आक्रमण हो रहा है उसकी रक्षा हम सबको मिल कर करनी है।

उन्होंने बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर का जिक्र करते हुई कहा कि बाबा साहब अंबेडकर ने एक ऐसे संविधान की रचना की है जिसमें सब धर्म और संस्कृति के लोग आज रहते हैं। उन्होंने लोगों से सदैव इस संस्कृति की रक्षा के लिए तत्पर रहने और आगे आने के लिए कहा।

नाथ के इस भाषण की सोशल मीडिया पर जमकर सराहना की गई, और ये ट्वीटर पर दूसरे नंबर पर ट्रेंड करने लगा। कमलनाथ समर्थक सौरभ खंडेलवाल के मुताबिक ये ट्वीटर ट्रेंड इस बात का प्रतीक है, कि सामाजिक सद्भाव को लेकर कमलनाथ का विजन कितना स्पष्ट है। जो भविष्य में मध्यप्रदेश को एक तरह की गति प्रदान करने के साथ यहां के लोगों के लिए भी बेहतर साबित होगा।

    First Movie in Space: अंतरिक्ष में पहली मूवी की शूटिंग कर धरती पर लौटा रूसी फिल्म क्रू

    Jammu-Kashmir Terror Attack : कुलगाम में आतंकियों ने घर में घुसकर दो मजदूरों को मार डाला

    T20 World Cup पहले ही दिन उलटफेर, स्काटलैंड को हल्के में लेना बांग्लादेश को पड़ा महंगा, 6 रन से गंवाया मैच