नई दिल्ली. फीस बढ़ाने को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार और जेएनयू वीसी के खिलाफ छात्रों का विरोध अभी जारी है. सोमवार 18 नवंबर को जवाहर लाल नेहरु छात्र संघ कैंपस से संसद भवन तक विरोध प्रदर्शन यात्रा का आयोजन करेगा. जेएनयू छात्र संघ का कहना है कि यह प्रदर्शन आम शिक्षा को बचाने के लिए किया जाएगा और साथ में सांसदों से इस मामले को संज्ञान में लेने की अपील की जाएगी.

कुछ दिनों पहले छात्रों का विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया जिसके बाद सरकार ने छात्रों की कुछ शर्ते मान ली. हालांकि, सरकार के हॉस्टल समेत सभी मामलों में फीस के ढ़ाचे के बदलाव से छात्र खुश नजर नहीं आए क्योंकि सरकार ने छात्रों के विरोध के बाद भी फीस को पहले जैसी नहीं बल्कि थोड़ी कम कर दी.

जेएनयू के छात्रों का विरोध प्रदर्शन जारी है. बीते दिन गुस्साए छात्रों ने एक बार फिर प्रशासनिक भवन में घुसकर हंगामा किया. इसी बीच यूनिवर्सिटी कैंपस में कुछ शरारती तत्वों ने स्वामी विवेकानंद की मूर्ति पर अपशब्द लिखे और प्रतिमा को नुकसान भी पहुंचाया. शरारती तत्वों की इस हरकत के बाद जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के अज्ञात छात्रों के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है.

छात्रों के खिलाफ यूनिवर्सिटी प्रशासन ने पुलिस से शिकायत की थी. जेएनयू प्रशासन की शिकायत में कहा गया कि कुछ अज्ञात छात्रों ने स्वामी विवेकानंद की मूर्ति और जेएनयू एडमिन ब्लॉक की बिल्डिंग को गलत तरह से नुकसान पहुंचाया है.

JNU Swami Vivekananda Statue Vandalized: जेएनयू कैंपस में स्वामी विवेकानंद की मूर्ति के साथ तोड़-फोड़, शरारती तत्वों ने लिखा- भगवा जलेगा

JNU Students Protest Police Clash: जेएनयू में हॉस्टल फीस बढ़ाने पर छात्रों का विरोध प्रदर्शन, शिक्षक संघ का समर्थन, वीसी के इस्तीफे की मांग, 600 जवान तैनात