नई दिल्ली.Ramayana Express- भारतीय रेलवे ने सोमवार को रामायण एक्सप्रेस में सेवारत कर्मचारियों की वर्दी बदल दी, क्योंकि हिंदू संतों ने उनके भगवा संगठनों पर आपत्ति जताई थी। उज्जैन के हिंदू संतों ने भगवा वर्दी को हिंदू धर्म का अपमान बताया था और 12 दिसंबर को दिल्ली में ट्रेन नहीं बदलने पर ट्रेन को ब्लॉक करने की धमकी दी थी।

ट्रेन चलाने वाले आईआरसीटीसी ने एक बयान में कहा, ‘यह सूचित किया जाता है कि सर्विस स्टाफ की पेशेवर पोशाक के रूप में सर्विस स्टाफ की पोशाक पूरी तरह से बदल दी गई है। हुई असुविधा के लिए खेद है।” वर्दी को शर्ट और पेंट और पारंपरिक टोपी में बदल दिया गया है। हालांकि वेटर भगवा मास्क और दस्ताने पहनेंगे।

उज्जैन अखाड़ा परिषद के पूर्व महासचिव अवधेशपुरी ने कहा, “साधु जैसी टोपी के साथ भगवा पोशाक पहनना और रुद्राक्ष की माला (हार) पहनना हिंदू धर्म और उसके संतों का अपमान है।” उन्होंने कहा कि अगर वेटरों का भगवा ड्रेस कोड नहीं बदला गया तो संत दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन पर ट्रेन को रोक देंगे।

रेलवे बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि उसने इस विवाद को नहीं भड़काने और वर्दी को स्वीकार्य करने के लिए बदलने का फैसला किया। पहली रामायण सर्किट ट्रेन 7 नवंबर को 17 दिन की यात्रा पर निकली।

Farm laws repeal: संयुक्त किसान मोर्चा का बड़ा फैसला, पीएम को ओपन लेटर लिख आंदोलन तेज करेंगे

DDMA issues advisory for metro and buses: प्रदूषण के मद्देनजर डीडीएमए ने उठाया बड़ा कदम

Worldwide Pollution Know Solution प्रदूषण से मुक्ति पाने के लिए विदेशों से लें सीख

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर