जयपुर. आईटीवी नेटवर्क के प्रमुख हिंदी क्षेत्रीय समाचार चैनल इंडिया न्यूज राजस्थान ने रविवार को आज गोल्डन प्रिस्क्रिप्शन कॉन्क्लेव एंड अवार्ड्स समारोह का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम में जिन लोगों ने राजस्थान में स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में अपने उल्लेखनीय योगदान और चिकित्सकीय चमत्कारों से मेडिकल क्षेत्र के विकास के लिए बेहतरीन काम किया है, उन्हें सम्मानित किया गया. जयपुर के झालाना ऑफिसर्स इंस्टीट्यूट में आयोजित इस कार्यक्रम में राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भी शिरकत की. इस समारोह में रघु शर्मा ने गोल्डन प्रिस्क्रिप्शन अवार्ड से चिकित्सकों को सम्मानित किया.

इस कार्यक्रम के विशेष सत्र को संबोधित करते हुए मंत्री डॉ. शर्मा ने कहा, मैं स्वास्थ्य क्षेत्र में कार्यरत लोगों का हौसला बढ़ाने के लिए हेल्थ कॉन्क्लेव आयोजित करने पर इंडिया न्यूज राजस्थान को बधाई देना चाहूंगा. हमें अपने राज्य के डॉक्टरों पर गर्व है, जो राज्य के दूरस्थ हिस्सों में भी अपनी सेवाएं दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि वर्तमान में राजस्थान में निजी और सरकारी मेडिकल कॉलेजों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है. हम 15 और नए कॉलेज शुरू करने की योजना बना रहे हैं.

मंत्री रघु शर्मा ने बताया कि राजस्थान सरकार राज्य में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए पर्याप्त कदम उठा रही है. राजस्थान स्वास्थ्य का अधिकार लागू करने वाला पहला राज्य बन जाएगा, हमारी सरकार जल्द ही इसे पूरा करेगी. साथ ही कैंसर और टीबी जैसी पुरानी बीमारियों की मुफ्त दवा भी हमारी सरकार द्वारा मुफ्त दवा योजना के तहत आम लोगों को मुहैया कराई जाएगी. डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि इंडिया न्यूज राजस्थान ने इस मंच पर ऐसे लोगों की पहचान कराई है जिन्होंने व्यक्तिगत लाभ से परे, चिकित्सा और स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान दिया है.

जयपुर में आयोजित इंडिया न्यूज राजस्थान के इस हेल्थ कॉन्क्लेव में विभिन्न स्वास्थ्य मुद्दों पर चर्चा करने के लिए कुछ इंटरैक्टिव सत्र रखे आयोजित किए गए हैं, जिनमें- हेल्थकेयर का अधिकार, रोगी और डॉक्टरों के बीच अंतर को कम करना, नए वायरस की चुनौती, बच्चों और युवाओं पर प्रदर्शन का दबाव, समाज में गुटखा और शराब की समस्या, जागरूकता और महत्व, एचपीवी वैक्सीन, डॉक्टरों की जीवन शैली में बदलाव की आवश्यकता जैसे प्रमुख सत्र शामिल हैं.

इस कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र की थीम राइट टू हेल्थकेयर यानी हेल्थकेयर का अधिकार रखी गई. उद्घाटन सत्र में डॉ. एसएस अग्रवाल, डॉ. एमआर जैन और अधिवक्ता सूर्य प्रताप सिंह ने हिस्सा लिया. इन्होंने सरकार द्वारा नागरिक स्वास्थ्य के लिए कानून बनाने की पहल पर चर्चा की गई. इस दौरन डॉ. एमआर जैन ने कहा कि भारत में मधुमेह तेजी से फैल रहा है. सरकार को इस बीमारी के बारे में जागरूकता पैदा करनी चाहिए. वहीं डॉ. एसएस अग्रवाल ने चर्चा के दौरान बताया कि भारत को स्वास्थ्य क्षेत्र में अपने खर्च को बढ़ाने की आवश्यकता है.

एक अन्य सत्र ‘नए वायरस के खतरे और उपचार’ में डॉ. जय किशन मित्तल और डॉ. विनोद जोशी ने स्वाइन फ्लू और इनसेफलाइटिस बीमारी के घातक वायरस के बारे में चर्चा की. डॉ. मित्तल ने कहा कि इनफ्लूएंजा वायरस सर्दी और बारिश के मौसम में तेजी से फैलता है. वहीं डॉ. जोशी ने स्वाइन फ्लू के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि स्वाइन फ्लू की रोकथाम के लिए टीकाकरण सबसे अच्छा समाधान है, आमतौर पर कम रोग प्रतिरक्षा क्षमता वाले लोग स्वाइन फ्लू की चपेट में आ जाते हैं. इस दौरान मरीजों के परिजनों को सावधान रहना चाहिए ताकि वो आगे न फैल पाए.
 
एक अन्य सत्र ‘पिंक रिबन संस्कृति और एचपीवी वैक्सीन’ में डॉ. वीणा आचार्य, डॉ. तरुच्या बंसल, डॉ. विनीता पाटनी और डॉ. राज कुमारी सोमानी ने हिस्सा लिया. इस दौरान सभी महिला चिकित्सकों ने एचपीवी वैक्सीन कैसे सर्वाइकल कैंसर को पूरी दुनिया से मिटा सकता है, पर चर्चा की. इस सत्र के दौरान डॉक्टरों ने वैक्सीन के बारे में जागरूकता पैदा करने का आह्वान किया. साथ ही महिलाओं को स्तन कैंसर और पिंक रिबन संस्कृति के कारणों और रोकथाम पर भी शिक्षित करने की कोशिश की.

अगला सत्र युवाओं, बच्चों और पेशेवरों के साथ परफोर्मेंस के दबाव पर आधारित रहा. इस सत्र में डॉ. आरके सोलंकी और डॉ. ललित बत्रा ने भाग लिया. डॉ. सोलंकी ने कहा, पर्फोर्मेंस के दबाव के कारण लोगों में तनाव की प्रतिक्रिया इन दिनों आम है, इससे शारीरिक विकृति हो सकती है. वहीं डॉ. बत्रा ने बताया कि आज की पीढ़ी हर क्षेत्र में खुद को साबित करने के लिए भागमभाग में लगी है, इस कारण उन पर परफोर्मेंस का दबाव रहता है. तनाव के बजाय लोगों को अपने कौशल में वृद्धि के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए.

इसके बाद गुटखा, तम्बाकू और शराब के दुष्प्रभावों के बारे में सत्र आयोजित किया गया जिसमें डॉ. अनिल तांबी, डॉ. पवन सिंघल और डॉ. राजेश गुप्ता ने भाग लिया. पैनलिस्ट ने इस सत्र में तम्बाकू के हानिकारक प्रभावों की चर्चा की. डॉ. गुप्ता ने कहा कि परिवार और रिश्तेदार तंबाकू और शराब के आदी व्यक्ति की पुनर्वास प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. यदि आपके आस-पास कोई ऐसा व्यक्ति है जिसे तंबाकू या अन्य मादक पदार्थों की लत है तो उससे नशा छुड़वाने का प्रयत्न करें.

इस कॉन्क्वलेव के आखिरी सत्र में मरीजों और चिकित्सकों के बीच बढ़ती दूरी को कम करने पर चर्चा की गई. इस सत्र में डॉ. दिनेश माथुर, डॉ. नरेश सोमानी और डॉ. तरुण पाटनी ने हिस्सा लिया. डॉ. पाटनी ने सत्र को संबोधित करते हुए बताया कि मीडिया चिकित्सकों की सकारात्मक भूमिका दिखाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. वहीं डॉ. माथुर कहते हैं कि चिकित्सकों की तुलना पहले भगवान के साथ की जाती थी लेकिन हाल के दिनों में मरीजों और डॉक्टरों के बीच अविश्वास बढ़ गया है, इसे मीडिया और सरकार की मदद से कम करने की जरूरत है.

India News Haryana Manch: चंडीगढ़ में इंडिया न्यूज हरियाणा के मंच से बोले सीएम मनोहर लाल खट्टर, आगामी विधानसभा चुनावों में 75 प्लस सीट जीतेगी बीजेपी

Prakash Javadekar On Plantation: आईटीवी इंडिया नेक्स्ट कॉन्क्लेव में बोले पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर- पेड़ लगाकर घरती मां का कर्ज उतारें