देहरादून: उत्तराखंड के हरिद्वार से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. यहां के एक रिटायर्ड भेल अधिकारी और उनकी पत्नी ने अपने बेटे और बहू पर इसलिए मुकदमा किया है, क्योंकि दोनों की शादी के 6 साल बाद भी बच्चा नहीं हुआ है. बुजुर्ग दंपति ने मांग की है कि एक साल के अंदर उन्हें पोता या 5 करोड़ रुपये चाहिए है, उनका कहना है कि मेंने जो अपने बेटे को पालन-पोषण और शिक्षा पर खर्च किया है मुझे वो वापस चाहिए.जानकारी के मुताबिक दंपति का पायलट बेटा गुवाहाटी और बहू नोएडा में रहते है और यही पर नौकरी करते है. दंपति के वकील अरविंद श्रीवास्तव का कहना है कि मांगे गए 5 करोड़ रुपए कि मांग इसलिए की गई, क्योंकि दंपति ने अपने की बेटे की शादी पर पांच सितारा होटल में 5 करोड़ रुपए खर्च किए, इसी में 60 लाख रुपये की एक लग्जरी कार और विदेश में उनके हनीमून पर खर्च की गई राशि भी शामिल की गई है. याचिका को हरिद्वार की एक स्थानीय अदालत ने स्वीकार करते कर लिया है और 15 मई को इसपर सुनवाई होगी.

बेटे को भेजा था अमेरिका

इस मामले पर 61 साल के रिटायर्ड भेल अधिकारी एस आर प्रसाद का कहना है कि “मेरा एक लड़का है. मैंने अपनी सारी बचत उसकी परवरिश और शिक्षा पर खर्च कर दिया. मैंने उन्हें 2006 में एक पायलट ट्रेनिंग कोर्स के लिए अमेरिका भेजा था, जिसके लिए 50 लाख रुपये से भी अधिक खर्च किए. वह 2007 में विदेश में आर्थिक मंदी के चलते भारत लौट आया था और फिर उसकी नौकरी नही रही. दो साल से ज्यादा समय तक मैंने ही खर्च उठाया.

शादी के हो चुके हैं 6 साल

दंपति आगे कहते है कि “मेरे बेटे को जल्द ही निजी एयरलाइन में पायलट नौकरी मिल गई, जिसके बाद हमने उसकी शादी करने का फैसला किया, क्योंकि मेरी 57 साल की पत्नी अक्सर बीमार रहती हैं. आखिरकार 2016 में उसकी शादी इस उम्मीद के साथ कर दी कि रिटायर्ड होने के बाद हमें खेलने के लिए एक पोता होगा. शादी के लगभग छह साल बीत चुके हैं और कोई बच्चा नहीं है. हम बहुत ज्यादा मानसिक उत्पीड़न का सामना कर रहे हैं.”

बहू को लेकर बोली बुजुर्ग ने ये बात

एस आर प्रसाद कहते है कि मेरा बेटा और बहू अपनी नौकरी के कारण अलग-अलग शहरों में रहते हैं, जिस की वजह से बहुत दिक्कत हो रही है. हमने अपनी बहू के साथ अपनी बेटी की तरह ही व्यवहार किया. लेकिन इसके बावजूद वह कभी हमारे साथ नही रहती. हमने उसे यह भी बोला कि यदि तुम्हें अपनी नौकरी के कारण बच्चे की देखभाल करने की चिंता है तो बच्चे को हमें दे सकती है, ताकि हम उसके पालन-पोषण और देखभाल कर सकें. लेकिन हमारे पास शायद ही पैसा बचा हो, क्योंकि हमने अपना सब कुछ अपने बेटे पर खर्च कर दिया.

‘2006 में बेटे को भेजा था अमेरिका’

पूरे मामले को लेकर 61 साल के रिटायर्ड भेल अधिकारी एस आर प्रसाद ने कहा, “मेरा एक लड़का है. मैंने अपनी सारी बचत उसकी परवरिश और शिक्षा पर खर्च कर दी. मैंने उन्हें 2006 में एक पायलट ट्रेनिंग कोर्स के लिए अमेरिका भेजा था, इसके लिए 50 लाख रुपये से अधिक खर्च किए. वह 2007 में विदेश में आर्थिक मंदी के चलते भारत लौट आया था और फिर उसकी नौकरी चली गई. दो साल से अधिक समय तक उसे जॉब नहीं मिली. मैंने इस दौरान भी खर्च उठाया.

यह भी पढ़े:

बहुत देर कर दी मेहरबां आते-आते… अखिलेश से टूटा आजम का मन, कर चुके अंतिम फैसला

IPL 2022 में लगातार खराब प्रदर्शन के बाद सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल हो रहे हैं ईशान किशन

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर