अहमदाबाद: गुजरात के कडी में कथित गौरक्षकों द्वारा एक 50 साल के शख्स की पिटाई का मामला सामने आया है. यह घटना मंगलवार को उस वक्त हुई, जब वह मवेशी- 4 भैंसे और एक भैंस, ले जा रहा था. बाद में पशु अधिनियम की धाराओं के तहत बिना इजाजत पशु ले जाने को लेकर अदालज पुलिस ने पीड़ित को पकड़ लिया. बुधवार को पुलिस ने घटलोडिया के रहने वाले आनंद रबारी, लंभू रबारी, वघु रबारी के खिलाफ शिकायत दर्ज की. उनके हमले में आलमपुर गांव के रहने वाले पीड़ित फकीर मोहम्मद सैयद को गंभीर चोट आईं. उसके बाएं पैर में फ्रैक्चर के अलावा कंधे, हाथ और कमर में भी चोट लगी है.

टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक जब पूछा गया कि गौरक्षक किसी शख्स को कैसे पीट सकते हैं तो मामले की जांच कर रहे अफसर पीएसआई केजी गोस्वामी ने कहा, ”आरोपियों ने उसे इसलिए पीटा क्योंकि सैयद गैरकानूनी तरीके से भैंसे ले जा रहा था.” कथित गौरक्षकों पर हमला करने और धमकी देने को लेकर मामला दर्ज किया गया है. बुधवार को पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार किया था.

क्या हुआ था: FIR के मुताबिक सैयद मवेशियों को लेकर जा रहा था, तभी अचानक तीन बाइक पर सवार लोगों ने उसका पीछा किया और उसे शेरथा टोल बूथ और वैष्णोदेवी सर्किल के करीब रोक लिया. सैयद ने पुलिस को बताया, ”आरोपी मुझे वैष्णो देवी मंदिर के पीछे एक खुले मैदान में ले गए और मवेशियों के बारे में पूछताछ करते हुए गालियां देने लगे. जब मैंने बताया कि दरियापुर में मवेशी देने जा रहा हूं तो वे मुझे लाठी से पीटने लगे”.

शिकायतकर्ता ने कहा, ”वे मुझे तब तक पीटते रहे, जब तक मैं जमीन पर नहीं गिर गया. उन्होंने कहा कि वे मुझे जान से मार देंगे लेकिन तभी पुलिस वहां आ पहुंची और मुझे और आरोपियों को अदालज पुलिस थाने ले गई. ” पीएसआई गोस्वामी ने कहा कि सैयद के खिलाफ बिना परमिट के पशुओं को ले जाने को लेकर मामला दर्ज किया गया है.

हत्या के शक में निवस्त्र कर महिला की पिटाई के आरोप में 360 लोगों के खिलाफ FIR, 15 गिरफ्तार

असम: गाय चोर के शक में भीड़ ने चार लोगों को पीटा, एक की मौत, तीन गंभीर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App