नई दिल्ली. गुजरात के साबरकांठा जिले में 28 तारीख को 14 महीने के बच्ची के साथ हुए रेप के बाद हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है. अब गुजरात के मध्य इलाकों में हिंदी भाषी लोगों को निशाना बनाया जा रहा है. खबर है कि आनंद जिले में बाल अमुल प्लांट में 8 लोगों पर कथित तौर से हमला किया गया. इन हमलों के चलते उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग भारी संख्या में गुजरात छोड़ने पर मजबूर हैं.

गुजरात में हिंदी भाषी लोगों के खिलाफ बढ़ती हिंसा को देखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने समकक्ष गुजरात के सीएम विजय रूपाणी को फोन कर इस मामले पर चिंता प्रकट की. उन्होंने स्थिति पर नियंत्रण  करने के  लिए गुजराज के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से कदम उठाने के लिए कहा.

साबरकांठा रेप के बाद भड़की हिंसा के तहत गुजरात में उत्तर प्रदेश और बिहार के 56 प्रवासियों पर अटैक हुए हैं जबकि पूरे प्रदेश में 431 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. 14 वर्षीय बच्ची के साथ रेप की घटना हिम्मतनगर में हई थी. ऐसा कहा जा रहा है कि जिस बच्ची से बलात्कार किया गया वह ठकोर जाति से थी. मेहसाना, गांधीनगर, अहमदाबाद, वड़ोदरा आनंद और पंचमहल में ठकोर जाति के लोग बड़ी संख्या में रहते हैं. गुजरात के इन्हीं जिलों में हिंदी भाषी लोगों को निशाना बनाया जा रहा है.

अहमदाबाद से 100 से अधिक प्रवासी अपनी रोजी-रोटी छोड़कर चले गए जब कबीर टेंपल के पास उनकी गोदाम में आग लगा दी गई. वहीं उत्तर भारतीयों के खिलाफ 6 लोगों को नफरत फैलाने वाले संदेश लिखते देखा गया. टूर ऑपरेटर महीपत सिंह राजावत के मुताबिक पिछले दो दिनों में करीब 25,000 हजार लोगों ने अहमदाबाद छोड़ दिया है. नॉर्थ गुजरात में उत्तर प्रदेश और बिहार के करीब 12,000 मजदूर काम करते हैं.

गौरतलब है कि 28 सितंबर की रात को साबरकांठा में एक मजदूर रवींद्र कूमार ने 14 महीने की बच्ची के साथ रेप किया था. वीरेंद्र कुमार बिहार का रहने वाला है जो साबरकांठा में एक फैक्ट्री में काम करता था. रेप की इस घटना के बाद गुजरात के कई इलाकों लोग हिसंक हो गए और उन्होंने ने बिहार के लोगों के निशाना बनाया.

यूपी बिहार के लोगों का गुजरात से पलायन, पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह ने सीएम विजय रुपाणी को लगाई

Gujarat Violence: अहमदाबाद की फैक्ट्री में बिहार के 47 मजदूरों को बनाया गया बंधक

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App