चेन्नईः तमिलनाडु से समाज को हैरान करने वाली एक खबर आई है जहां एक 77 वर्षीय बुजुर्ग विधवा को मात्र एक बिंदी लगाने के लिए शर्मिंदा होना पड़ा. इतना ही नहीं मात्र बिंदी लगाने के चलते सरकारी अधिकारी ने उनको मिलने वाली पेंशन पर भी रोक लगा दी . और जिसके पीछे उनका तर्क था कि विधवा होकर वो बिंदी कैसे लगा सकती हैं. जिसके बाद महिला की बहू ने विभाग के बड़े अधिकारियों से शिकायत की तो उन्होंने ने भी अधिकारी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की बल्कि एडजस्ट करने की बात भी कह दी.

मामला तमिलनाडु का है जहां एक 77 महिला अपने बेटे और बहू के साथ अपने मृत पति की पेंशन लेने के लिए सरकारी दफ्तर गई थी. विधवा महिला की बहू ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि जब वो अपनी सास के साथ पेंशन लेने के लिए दफ्तर पहुंची तब विभाग में पेंशन देने वाला अधिकारी सो रहा था. उन्होंने उस अधिकारी को उठाया जिसके बाद महिला नेपेंशन का फॉर्म और अन्य कागजात अधिकारी को दिखाए तो उसने महिला की फॉर्म में लगी फोटो पर नजर डालते हुए कहा कि एक विधवा बिंदी कैसे लगा सकती है.

जिसके बाद अधिकारी ने महिला को पेंशन देने से मना कर दिया. जब महिला ने कारण पूछा तो अधिकारी ने उनको राशन कार्ड लेकर आने की बात कहकर वापस कर दिया. बुजुर्ग महिला की बहू ने बताया कि, अधिकारी ने माथे से बिंदी हटाकर पति की चिता की राख माथे पर लगाने की बात कही और इसके साथ ही अधिकारी ने कहा कि एक विधवा को फूलों आदि से दूर रहना चाहिए. अधिकारी के इस खराब और अजीब व्यवहार को देखते हुए वो लोग वहां से वापस घर लौट गए. जब अगले दिन राशन कार्ड लेकर वो लोग दफ्तर पहुंचे तो अधिकारी वहां से नदारद था.

विधवा महिला की बहू ने अधिकारी के खराब व्यवहार की शिकायत विभाग के बड़े अधिकारियों से की तो उन्होंने अधिकारी पर कार्रवाई करने के बजाय उसका पक्ष लिया और महिला से एडजस्ट करने की बात कही. विधवा महिला के पति इलैक्ट्रिकल और मैकेनिकल विभाग में काम किया करते थे. जहां से उन्हें प्रत्येक माह पेंशन मिलती थी. लेकिन उनकी मौत के बाद उनका परिवार की हालत खराब होने लगी जिससे उनकी आर्थिक स्थिति खराब हो गई थी. जिसके चलते विधवा महिला अपने पति की पेंशन निकलवाने के लिए सरकारी दफ्तर पहुंची थी.

इन 2 स्त्रियों का अपमान करना पड़ सकता है भारी, जीवनभर के लिए हो जाएंगे कंगाल

इलाहाबाद के इस मोहल्ले में बीजेपी नेताओं की एंट्री बंद, पोस्टर पर लिखा, यहां महिलाएं रहती हैं

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App