दिल्ली: दिनदहाड़े मां की गोद से बच्ची छीन ले गए बदमाश, मचा हड़कंप

नई दिल्ली: झंडेवालान मंदिर में दर्शन करने पहुंची बीजेपी युवा मोर्चा के प्रदेश के अध्यक्ष की पत्नी की गोद से एक माह की बच्ची का बाइक सवार 2 बदमाशों ने अपहरण कर लिया. कंट्रोल रूम से काल मिलने के बाद आनन-फानन में जिले के वरिष्ठ अधिकारियों ने बच्ची का फोटो सर्कुलेट कर सभी थानों को अलर्ट कर दिया.

पुलिस की कई टीमें बच्ची की खोजबीन में लग गईं. करीब 3 घंटे बाद पुलिस ने राहत की सांस ली. जब पता चला कि एक बच्ची मौरिस नगर इलाके के एक मंदिर की सीढियों पर मिली. मामले में फिलहाल देश बंधु गुप्ता रोड थाना पुलिस मुकदमा दर्ज कर घटना स्थल के आसपास लगे CCTV कैमरों के फुटेज के जरिए बदमाशों की पहचान कर रही है.मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मलकागंज के रहने वाले वासु रुखड़ बीजेपी युवा मोर्चा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष हैं. पत्नी मनजीत के अलावा एक माह की बेटी है.

क्या है पूरा मामला

बुधवार शाम करीब चार बजे मंजीत अपनी बच्ची को गोद में लेकर झंडेवालान मंदिर के दर्शन करने के लिए पहुंची थी. इस बीच दर्शन करने के बाद जब वह वापस घर जाने के लिए मंदिर से निकलीं तो कुछ ही दूरी पर पीछे से बाइक सवार 2 बदमाश आए. पीछे बैठे बदमाश ने उनके हाथों से बच्ची को छीन लिया. उन्होंने बदमाशों का काफी दूर तक पीछा भी किया लेकिन वह फरार हो गए. घटना की जानकारी पुलिस को दी गई. एक माह की बच्ची को दिनदहाड़े मां की गोद से छीन कर ले जाने की वारदात से हड़कंप मच गया.

जिले के वरिष्ठ अधिकारी हरकत में आए और तुरंत कई टीमें बनाई गईं. आसपास के CCTV कैमरों के फुटेज की जांच की गई. 2 घंटे के बाद पुलिस कंट्रोल रूम में मौरिस नगर थाना इलाके के विजय स्थित काली मंदिर की सीढिय़ों में एक बच्ची के मिलने की काल आई. देश बंधु गुप्ता रोड थाना पुलिस तुरंत माता-पिता को लेकर वहां पहुंची तो उन्होंने बच्ची की पहचान कर ली. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है.

किसी से नहीं है दुश्मनी

शुरुआती जांच में पुलिस को आंशका है कि बदमाश किसी और बच्चे का अपहरण करना चाहते थे. लेकिन उन्होंने किसी और के बच्चे का गलती से अपहरण कर लिया. वासु रुखड़ की किसी से दुश्मनी आदि भी नहीं है. इस मामले को लेकर फिलहाल पुलिस जांच पड़ताल कर रही है. वहीं शाम को दिल्ली के सबसे प्रसिद्ध मंदिर के पास हुई इस घटना से पुलिस के सुरक्षा व्यवस्था पर भी कई सवाल खड़े कर दिए है. मंदिर परिसर के आसपास पुलिस सुरक्षा व्यवस्था की स्थिति बेहद खराब है.

कारगिल युद्ध के साजिशकर्ता थे मुशर्रफ, 1965 में भारत के खिलाफ लड़े थे युद्ध

Parvez Musharraf: जानिए क्या है मुशर्रफ-धोनी कनेक्शन, लोग क्यों करते हैं याद

Latest news