दिल्लीः देश की राजधानी दिल्ली में बुराड़ी में एक परिवार के ग्यारह लोगों के शव मिलने से सनसनी फैल गई है. परिवार के ज्यादातर लोगों के शव सीलिंग से लटके मिले साथ ही आंखों पर पट्टी बंधी हुई थी और हाथों को पीछे बांधा गया था. रायटर्स के मुताबिक बुराड़ी क्षेत्र के संत नगर में दो मंजिला घर में मिले शवों में सात महिलाएं और चार पुरुष शामिल हैं. इस घटना के पीछे कारण गैंग वॉर होने का शक जताया जा रहा है. 

बता दें कि दो हफ्ते पहले भी दिल्ली के बुराड़ी में ऐसा ही घटना हुई था जहां मेन बाजार में गोलीबारी में तीन लोगों की मौत हो गई थी और पांच लोग घायल हुए थे. घटना की सूचना मिलने के बाद मामले की छानबीन में जुट गई है. साथ ही पता लगाने की कोशिश कर रही है कि इस गैंगवार का दो हफ्ते पहले हुई घटना से तो कई संबंध नहीं.

रविवार को मिले एक परिवार के ग्यारह लोगों के शव में चार पुरुषों और सात महिलाओं के शव शामिल हैं. पुलिस को इस दिल दहला देने वाली वारदात की सूचना बुरारी में रहने वाले एक शख्स ने दी जो उस परिवार का पड़ोसी है. मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो ग्यारह में एक शव जमीन पर पड़ा पाया गया वहीं बाकी के दस शव रेलिंग पर लटके मिले. इस वारदात के बाद से इलाके सहित आसपास के क्षेत्रों में भय का माहौल बना हुआ है. संयुक्त पुलिस आयुक्त राजेश खुराना का कहना है कि “इनमें से कुछ फंदे से लटके मिले जबकि कुछ के शव जमीन पर पड़े हुए थे, जिनके हाथ और पैर बंधे हुए थे”

खुराना ने कहा, “तीन किशोरों सहित सात महिलाओं और चार पुरुषों के शव पाए गए हैं. हमें कोई सुसाइड नोट नहीं मिला. हमने मौत के कारणों का पता लगाने के लिए शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा है.” उन्होंने आगे बताया कि “दुकान रोजाना सुबह छह बजे खुल जाती थी लेकिन जब आज सुबह 7.30 बजे तक दुकान नहीं खुली तो एक पड़ोसी दूध खरीदने के लिए गया. जांच करने पर पड़ोसी ने घर का दरवाजा खुला पाया, जिसके बाद उसने पुलिस को सूचना दी.”

जानकारी के अनुसार मृतकों में से दो भाई भूपिंदर और ललित सिंह हैं, जिनमें से भूपिंदर किराने की दुकान चलाते थे, जबकि ललित सिंह बढ़ई की दुकान चलाते थे. दोनों घर से ही व्यवसाय करते थे. इस मामले पर एक पड़ोसी ने कहा, “ललित और भूपिंदर में दोनों बहुत दोस्ताना था. वे आत्महत्या नहीं कर सकते. मैंने कल रात भूपिंदर से बात की थी. वह बहुत खुश थे और कही से तनाव में नहीं लग रहे थे.”

मामले की जांच कर रहे अधिकारियों का कहना है कि अभी तक हमें इस वारदात के पीछे की वजह का पता नहीं लग पाया है. हमारी टीम घटनास्थल पर मौजूद है और मामले की जांच की करने में लगी हुई है. आपको बता दें कि इससे पहले 18 जून को बुरारी के मेन मार्केट में गैंगवार में हुई गोलीबारी में तीन लोगों की मौत हो गई थी वहीं कई लोग घायल भी हुए थे. पुलिस ताजा मामले को 18 जून को हुई घटना से जोड़कर देख रही है.

यह भी पढ़ें- बेटे ने की मुस्लिम से शादी तो दलित पिता को पीटा, सरेआम चटवाया थूक

शैलजा द्विवेदी हत्याकांड: दिल्ली पुलिस ने बरामद किया हत्या में इस्तेमाल चाकू और टी शर्ट की राख

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App