अमेठीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रोजगार को पकौड़े बेचे जाने से क्या जोड़ा, राष्ट्रीय स्तर पर पकौड़ों का जिक्र होने लगा. देश के अलग-अलग हिस्सों में पढ़े-लिखे युवा स्कूल-कॉलेजों और बाजारों में पकौड़े बेचकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. इस बीच अब उत्तर प्रदेश के अमेठी में एक पूर्व बीजेपी सदस्य ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और यूपी के मंत्री और अमेठी प्रभारी मोहसिन रजा को चिट्ठी लिखकर एक अजीबोगरीब मांग कर डाली है. मिली जानकारी के अनुसार, अश्विन मिश्र नामक शख्स ने दोनों मंत्रियों को पत्र लिखकर पकौड़े का रोजगार शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत लोन दिलाने की मांग की है.

स्मृति ईरानी और मोहसिन रजा से गुहार लगाते हुए अश्विन ने लिखा, ‘मैं अश्विन मिश्र भाजपा से सदस्य रह चुका हूं. मैं भाजपा आईटी विभाग अमेठी की जिला टीम का सदस्य और अमेठी विधानसभा के सोशल मीडिया प्रमुख पद पर कार्यरत था. 27 फरवरी, 2017 को सभी पदों से त्याग पत्र दे चुका हूं. मैंने भाजपा में कार्य किया इस नाते निवेदन करता हूं कि वर्तमान में तेजी से बढ़ती बेरोजगारी को देखते हुए मेरे माता-पिता (उम्र लगभग 55 वर्ष) मेरे भविष्य के लिए चिंतित हैं. मैं उनके सहारे की लाठी हूं. अमेठी केवल नाम मात्र का VVIP क्षेत्र है क्योंकि न ही यहां उच्च स्तर की शिक्षा व्यवस्था है और न ही अच्छा रोजगार, जिससे मैं पढ़-लिखकर यहीं रोजगार करके अपने माता-पिता के बुढ़ापे का सहारा बन सकूं.’

अश्विन ने आगे लिखा, ‘कुछ दिन पहले माननीय प्रधानमंत्री जी का एक निजी चैनल पर इंटरव्यू देखा. उनकी कुछ बातें मुझे बहुत अच्छी लगीं. उनका इंटरव्यू देखने के बाद मैं रोजगार तलाश पर विराम लगाना चाहता हूं. प्रधानमंत्री जी के बेहतरीन सुझाव पर मैंने एक पकौड़े का स्टॉल लगाने पर विचार किया, जिससे मैं अपने परिवार की मदद के साथ अन्य लोगों को भी रोजगार दे सकूं. पिछले कई दिनों से मैं बैंकों के चक्कर लगाते-लगाते थक गया हूं. बैंक वाले साफ तौर पर प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत लोन देने से मना कर देते हैं. दूसरी ओर पीएम मोदी और केंद्र सरकार के अन्य मंत्री कहते हैं कि इस योजना के तहत 10 करोड़ परिवारों को सहायता मिली है, उनको व्यवसाय हेतु लोन मिला है. उनकी तरह और भी अमेठी के बेरोजगार युवा लोन के लिए दर-दर भटक रहे हैं. मैं कतई मानने को तैयार नहीं हूं कि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत लोन उपलब्ध कराया जा रहा है. आप दोनों के माध्यम से प्रधानमंत्री जी से अपील करना चाहता हूं कि मुझे इन अमेठी के बैंकों से पकौड़ा रोजगार हेतु लोग दिलाने की कृपा करें.’

बताते चलें कि पकौड़ा रोजगार को लेकर इन दिनों देश में अलग तरह की बहस छिड़ी है. पीएम मोदी के बाद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी राज्यसभा में अपने पहले भाषण में पीएम की बात से सहमति जताते हुए पकौड़े को रोजगार से जोड़ा था. शाह ने कहा था कि बेरोजगार रहने से अच्छा है कि देश के युवा पकौड़े बेचें. गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी अमेठी से लोकसभा चुनाव लड़ चुकी हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें इस चुनाव में हराया था. अमेठी कांग्रेस का मजबूत गढ़ माना जाता है. 2014 लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी को चुनौती देते हुए स्मृति ईरानी चुनावी मैदान में उतरी थीं लेकिन उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा.

BJP पर बरसी शिवसेना, कहा- पाकिस्तान की फायरिंग में शहीद हो रहे हैं जवान और नरेंद्र मोदी सरकार पकौड़े के पीछे पड़ी है