नई दिल्ली. तिहाड़ जेल में बंद कुख्यात गैंगस्टर जितेंद्र गोगी शुक्रवार को दिल्ली के रोहिणी कोर्ट में गोलीबारी के दौरान मारा गया था। शुरुआती जानकारी के मुताबिक, गोगी को कोर्ट में पेश करने के दौरान विरोधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.पेशी के लिए उसे ले आई दिल्ली पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई की और दोनों हमलावरों को मार गिराया. कुछ लोग घायल भी हुए हैं।

रोहिणी के डीसीपी प्रणव तायल ने कहा, “वकील की वर्दी में दो हमलावरों ने अदालत में गोगी पर गोलियां चलाईं, जिसके बाद पुलिस ने भी गोलियां चला दीं।” दिल्ली पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने कहा कि ‘टिल्लू’ गिरोह के हत्यारों को ‘बेअसर’ कर दिया गया। उन्होंने स्पष्ट किया कि यह “गैंगवार नहीं” था।

गोगी को अप्रैल में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण कानून (मकोका) के तहत गिरफ्तार किया था। मकोका प्रस्ताव में दर्जनों जबरन वसूली, डकैती, कारजैकिंग और डकैती के अलावा हत्या और हत्या के प्रयास के 19 मामलों का विवरण है।

गोगी, जो अब 30 साल का है, ने स्कूल छोड़ने के बाद संपत्ति का कारोबार करना शुरू कर दिया था और 2010 में अपने पिता की मृत्यु के बाद अपराध करने लगा था।

“उसने सितंबर 2010 में प्रवीण नाम के एक व्यक्ति पर गोली चलाई, फिर 2013 में दिल्ली विश्वविद्यालय के श्रद्धानंद कॉलेज में चुनाव के दौरान, गोगी और उसके दोस्तों ने संदीप और रविंदर नाम के दो युवकों की गोली मारकर हत्या कर दी. ये दोनों उसके दोस्त सुनील मान उर्फ टुल्लू से जुड़े थे, यहीं से दोनों दोस्त दुश्मन बन गये और गैंगवार शुरू हो गई. गोगी को अक्टूबर 2011 में गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद, उसने पैसे कमाने के लिए एक गिरोह बनाकर काम करना शुरू कर दिया.

Census in 2021 : केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दिया जातीय जनगणना संभव नहीं, राजनीति गरमाई

Petrol, diesel price today : डीजल महंगा, दिल्ली, मुंबई और अन्य शहरों की कीमत यहां देखें

Drishyam 2 में एक बार फिर दिखेगा Ajay Devgan का जलवा