संगरूरः पंजाब के संगरूर में एक ऐसी घटना सामने आई है जिसे सुनकर आप जरूर अब इस मामले में सावधानी बरतने वाले हैं. संगरूर निवासी एक परिवार पटियाला से वापस लौट रहा था. उन्हें कार में रखे एक लिफाफे में रखी गई पूजा सामग्री (धूप और अगरबत्ती की राख आदि) को नहर में प्रवाहित करना था. कार में गहनों से भरा एक और लिफाफा रखा था. उन्होंने चलती कार से लिफाफा नहर में प्रवाहित कर दिया. परिवार जब घर लौटा और दूसरे लिफाफे को खोलकर देखा तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई. दरअसल जल्दबाजी में उन्होंने गहनों वाला लिफाफा ही नहर में प्रवाहित कर दिया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, संगरूर के नाभा गेट निवासी लखवीर चंद अपने परिवार के साथ पटियाला से किसी रिश्तेदार को मिलकर कार से संगरूर वापस लौट रहे थे. रास्ते में उन्हें धूप और अगरबत्ती की राख आदि नहर में प्रवाहित करनी थी, जिसे उन्होंने लिफाफे में भरकर रख लिया था. कार में सोने-चांदी के गहनों से भरा एक और लिफाफा रखा था. उनकी कार नदामपुर बाईपास नहर के पास पहुंची तो उन्होंने कार से उतरने के बजाय लिफाफे को वहीं से नहर में फेंक दिया और बेफ्रिक होकर आगे बढ़ गए. वह लोग जब घर पहुंचे और दूसरे लिफाफे को खोलकर देखा तो उनके होश उड़ गए.

दरअसल उस लिफाफे में राख थी और गहनों वाले लिफाफे को उन्होंने नहर में प्रवाहित कर दिया था. आनन-फानन में वह लोग उसी जगह पर पहुंचे जहां पर उन्होंने लिफाफा नहर में प्रवाहित किया था. परिवार ने पटियाला से गोताखोरों को बुलाया लेकिन लिफाफे का कुछ पता नहीं चल सका. घटना की जानकारी मिलते ही वहां भीड़ जुटने लगी. पुलिस ने मौके पर पहुंच लोगों को वहां से हटाया. परिवार ने पुलिस को बताया कि लिफाफे में 10 तोला सोने के गहने और करीब आधा किलो चांदी के जेवरात थे. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

15 हजार किलो सोने से बना है माता महालक्ष्मी मंदिर, जानें कहां हैं धन की देवी का यह अद्भुत धाम

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App