पटना: मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में आरोपी ब्रजेश सिंह से संबंधों के चलते कुर्सी गंवाने वाली पूर्व मंत्री मंजू वर्मा की मुश्किलें और बढ़ गई है. अवैध कारतूस मामले में सीबीआई ने मंजू वर्मा और उनके पति पर केस करवाया था. इस मामले में दोनों ने अग्रिम जमानत के लिए बेगूसराय कोर्ट में याचिका दायर की थी जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया है.

दरअसल 17 अगस्त को सीबीआई ने मंजू वर्मा के घर पर छापेमारी कर 50 राउंड जिंदा कारतूस बरामद किए थें. सीबीआई के डीसीपी के कहने पर पुलिस ने दोनों के खिलाफ आर्म्स एक्स के तहत बेगूसराय के बरियारपुर थाना में मुकदमा दर्ज किया था.

पुलिस ने बेगूसराय स्थित मंजू वर्मा के घर के अलावा उनके कई ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की थी. इसके अलावा उनके पैतृक गांव पर भी पुलिस ने रेड डाली थी. इस मामले में पटना स्थित मंजू वर्मा के घर पर सीबीआई की टीम ने उनसे लगातार पांच घंटों तक पूछताछ भी की थी.

हाल ही में मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर के मंजू वर्मा के पति से संबंधों के चलते उन्हें समाज कल्याण मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था. हालांकि मंजू वर्मा लगातार अपने पति और ब्रजेश ठाकुर के संबंधों से इनकार करती रही हैं.

मुजफ्फरपुर के बाद हाजीपुर शेल्टर होम में बच्चियों का यौन उत्पीड़न, संचालक अरबिंद सिंह कांग्रेस सेल के नेशनल चेयरमैन

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम रेप केसः पूर्व मंत्री दामोदर रावत पर कस सकता है CBI का शिंकजा, बेटे को यूथ विंग से बाहर कर चुकी है JDU

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App