नई दिल्ली. हरियाणा में कांग्रेस पार्टी को बड़ा झटका लगा है. पूर्व हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक तंवर ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया है. अशोक तंवर ने हाल ही में बागी तेवर अपना लिए थे. उन्होंने पार्टी आलाकमान पर आरोप लगाया था कि हरियाणा के सोहना सीट की कांग्रेस टिकट पांच करोड़ रुपये में बेची गई है. अशोक तंवर के बागी सुरों के बाद पार्टी ने हरियाणा में स्टार प्रचारकों की लिस्ट में तंवर का नाम रखा था लेकिन अशोक तंवर ने अब पार्टी ही छोड़ दी है. 

चुनाव से कुछ समय पहले तक प्रदेश अध्यक्ष रहे अशोक तंवर कह रहे हैं कि 15 ऐसे कैंडिडेट को टिकट नहीं मिला जो जीतने की हालत में थे. अशोक तंवर ने कांग्रेस पार्टी के सारे पदों से इस्तीफा देते हुए सोनिया गांधी के आवास के बाहर प्रदर्शन किया और भूपिंदर सिंह हुड्डा के खिलाफ नारेबाजी भी की.

हरियाणा में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से अशोक तंवर की विदाई सितंबर के पहले सप्ताह में हुई वो भी पूर्व सीएम भूपिंदर सिंह हुड्डा के दबाव में. कुमारी शैलजा प्रदेश अध्यक्ष बनीं और हुड्डा को चुनाव समिति चेयरमैन के साथ-साथ विधायक दल का नेता बनाकर बिना कहे सीएम कैंडिडेट के तौर पर पेश किया गया. हुड्डा ने टिकट बंटवारे में किसी की ना सुनी.

Read Also ये भी पढ़ें- कश्मीर में डीसी ऑफिस पर आतंकियों ने किया ग्रेनेड अटैक

पांच साल से ज्यादा समय तक प्रदेश में कांग्रेस की कमान और संगठन संभाल रहे अशोक तंवर की चुनाव से ठीक एक महीना पहले अध्यक्ष पद से विदाई और टिकट में 15 नाम देने के बाद भी एक को टिकट नहीं देना ज्यादा गंभीर समस्या है. नतीजा भी गंभीर हुआ. शनिवार को अशोक तंवर ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया. इस तरह से चुनाव से पहले ही कांग्रेस को भीतरघात का शिकार होना पड़ रहा है. 

टिकट का ऐसा खेल, पार्टी की निष्ठा फेल
चाहे बीजेपी हो या कांग्रेस टिकट न मिलना या टिकट कट जाना, नेताओं की बगावत के पीछे मुख्य तौर पर यहीं दो कारण सामने आ रहे हैं. मुंबई में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रहे संजय निरुपम ने भी खुले तौर पर बागी तेवर अपना लिए हैं. उन्होंने राहुल गांधी और सोनिया गांधी के धड़ों में वर्चस्व की लड़ाई का सनसनीखेज आरोप लगाया.

निरूपम एक सीट पर अपना मनचाहा उम्मीदवार चाह रहे थे लेकिन पार्टी ने उनकी नहीं सुनी. वहीं अशोक तंवर ने 15 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की लिस्ट दी थी, उसमें से एक भी माना नहीं गया. वहीं बीजेपी के महाराष्ट्र सीएम देवेंद्र फणनविस ने भी साफ कहा है कि बागी उम्मीदवारों को बीजेपी की सहयोगी पार्टियों में भी जगह नहीं मिलेगी. ऐसे में जाने वाले सोच समझ लें. 

 चुनाव में बीजेपी के बदले आपस में भिड़े हैं  कांग्रेस के नेता, हरियाणा में अशोक तंवर के बाद महाराष्ट्र में संजय निरुपम की बगावत

MNS की गुंडागर्दी के विरोध में सड़कों पर उतरे फेरीवाले, कार्यकर्ताओं को जमकर पीटा-केस दर्ज

Aarey Forest Protest Trees Cut Mumbai LIVE Updates: मुंबई के आरे में पेड़ों की कटाई पर सियासी घमासान, प्रदर्शन के बाद हिरासत में ली शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी रिहा, पेड़ों से चिपके एक्टिविस्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App