नई दिल्लीः 2014-15 के एक मामले में आम आदमी पार्टी (AAP) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. चुनाव आयोग ने AAP को नोटिस जारी करते हुए पूछा है कि क्यों न उनका चुनाव चिन्ह छीन लिया जाए. आयोग ने नोटिस में AAP से उस पर कार्रवाई न करने की वजह भी पूछी है. दरअसल साल 2014-15 में पार्टी को मिले चंदे से जुड़े एक मामले में चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी को यह नोटिस भेजा है.

चुनाव आयोग ने साल 2014-15 में आम आदमी पार्टी को मिले चंदे के मामले में जारी नोटिस में पूछा है कि क्यों न उस पर कार्यवाही की जाए? क्यों न पार्टी का चुनाव चिन्ह (झाड़ू) छीन लिया जाए. AAP की ओर से इस मामले में आयोग को नोटिस का जवाब देना है. फिलहाल AAP नेताओं की ओर से अभी इस बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

बताते चलें कि इनकम टैक्स की रिपोर्ट के आधार पर चुनाव आयोग ने AAP को नोटिस भेजा है. आम आदमी पार्टी पर 13 करोड़ रुपये के चंदे को छुपाने, हवाला के जरिए पैसे लेने, चुनाव आयोग और अपनी वेबसाइट पर गलत जानकारी देने के आरोप हैं. AAP संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पहले भी इस मुद्दे पर मीडिया के सामने अपनी बात रख चुके हैं.

डोर स्टेप डिलीवरी से AAP ने पीएम नरेंद्र मोदी को भेजी उनकी डिग्री, जारी किया कार्टून